भारत अमेरिका के बीच शुरू हो सकती है ट्रेड वार, आयात शुल्क को लेकर कलह बढ़ी

America Relief India On Iran Banned

India America Trade War : भारत ने जल्द ही अमेरिका को सप्लाई किए जाने वाले सामानों पर भी आयात शुल्क बढ़ाने की बात कही 

India America Trade War : विश्व के शक्तिशाली देशों में शुमार अमेरिका को लेकर भारत जल्द ही एक अहम फैसला करने वाला है, जो दोनों देशों के बीच होने वाले व्यापार को काफी प्रभावित करेगा.

बता दें कि पूरे विश्व में भारत एक बड़े बाजार के रुप में अपनी पहचान बना चुका है यही वजह है कि आज सभी देश भारत में अपना व्यापार फैलाने की इच्छा रखते हैं.
लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के रवैये के कारण यही बाजार आज भारत और अमेरिका के बीच रस्सा-कसी का कारण बन गया है.
बात यहां तक की बढ़ गई है कि एल्युमिनियम और इस्पात पर आयात शुल्क लगाने के मुद्दे पर भारत ने अमेरिका की विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) की विवाद निपटान प्रणाली में शिकायत भी करी है,
बता दें कि भारत जल्द ही अमेरिका से आयात होने वाले 20 वस्तुओं पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाने की सोच रहा है.
आखिर उत्पाद शुल्क बढ़ाने के पीछे क्या है वजह
भारत का अचानक अमेरिका को लेकर लिया गया ये फैसला शायद आम आदमी को समझ ना आए आइए हम आपको इसके पीछे की वजह बताते हैं.
दरअसल, अमेरिका काफी अधिक मात्रा में स्टील और एल्युमिनियम भारत को निर्यात करता है लेकिन, अमेरिका ने इन चीजों पर काफी अधिक मात्रा में आयात कर बढ़ाने का फैसला किया है जिससे भारत के आय पर प्रभाव पड़ रहा है.
यही वजह है कि भारत ने इसकी जवाबी कार्यवाही करते हुए अमेरिकी चीजों पर उत्पाद शुल्क बढ़ाने का फैसला किया है.
यह भी पढें – इराक़ संसदीय चुनाव जीतने के बाद भी मुक्तदा अल-सद्र के लिए आसान नहीं है सत्ता सुख
आखिर कबतक यह उत्पाद शुल्क जारी रहेगा
भारत ने उत्पाद शुल्क बढ़ाने पर साफ कहा है कि अमेरिकी उत्पादों पर शुल्क तब तक जारी रहेगा जब तक अमेरिका अपने यहां भारतीय सामानों पर आयात शुल्क नहीं हटाता.
अमेरिकी कदम से भारत को जितना नुकसान होगा, उसी के बराबर शुल्क अमेरिकी उत्पादों पर लगाए जाएंगे इसके अलावा भारत को शुल्क बढ़ाने और दूसरी वस्तुओं पर भी शुल्क लगाने का अधिकार होगा.
बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 9 मार्च को स्टील पर 25% और एल्युमिनियम पर 10% इंपोर्ट ड्यूटी लगाने की घोषणा की थी जिसका सीधा असर भारत पर भी पड़ा था.

अगले महीने से भारत बढ़ा सकता है उत्पाद शुल्क

अमेरिका में निर्यात होने वाले 20 उत्पाद जैसे बादाम, सेब और मोटरसाइकिल आदि जैसी चीजों पर अगले ही महीने से भारत उत्पाद शुल्क बढ़ाने वाला है. बता दें कि इन वस्तुओं में सोया ऑयल, रिफाइंड पामोलीन, चॉकलेट प्रोडक्ट और गोल्फ कार भी शामिल हैं.
एक अनुमान के मुताबिक भारत हर साल अमेरिका से करीब 10,000 करोड़ रु. के स्टील-एल्युमिनियम आयात करता है.लेकिन ट्रंप के फैसले के बाद मार्च से अब तक करोड़ों के स्टील और एल्युमिनियम का आयात प्रभावित हो चुका हैं .
यह भी पढ़ें – जानिए राजीव गांधी के उन 5 बड़े योगदान को जिन्हें देश भुला नहीं सकता
चीन भी ऐसा कर रहा है
गौरतलब है कि उत्पात शुल्क बढ़ाने का काम सिर्फ भारत ही नहीं चीन भी कर रहा है. 375 अरब डॉलर के व्यापार घाटे को कम करने के लिए चीन अमेरिकी वस्तुओं का आयात बढ़ाने वाला है.
दरअसल, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चेतावनी दी थी कि अगर चीन उसके व्यापार घाटे में शुरू में एक साल के भीतर 100 अरब डॉलर और 2020 तक 200 अरब डॉलर की कमी नहीं लाता है तो चीनी वस्तुओं पर शुल्क बढ़ाया जाएगा।
खैर, भारत को अमेरिका के काऱण हुए नुकसान की भरपाई सिर्फ अमेरिका द्वारा ही करना संभाव है. इसलिए भारत द्वारा किया गया यह फैसला देशहीत में तो है लेकिन, इससे कहीं ना कहीं दोनों देशों के बीच व्यापार जंग की भी शरूआत हो सकती है जो किसी के लिए भी सही नहीं है.