Padman Movie Review : महिलाओं के पीरियड्स पर खुलकर बोलने के अलावा और भी बहुत कुछ सिखाती है पैडमेन

Padman Movie Review

Padman Movie Review : खुशियों का समंदर, पिनकोड का नंबर, आज से पैडमेन सिनेमाघर का हो गया…

Padman Movie Review : महिलाओं को होने वाले पीरियड्स और उससे जुड़ी समस्याओं पर आधारित अक्षय कुमार की फिल्म पैडमेन आज सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है.

आपको बता दें कि सामाज के महत्वपूर्ण विषय पर बनी इस फिल्म का निर्देशन आर बाल्कि ने किया है जबकि इसका प्रोड़क्शन ट्विंकल खन्ना के द्वारा किया गया है.
अक्षय कुमार पर फिल्मायी गयी फिल्म ‘पैडमैन’ तमिलमाड़ू के अरुणाचलम मुरुगनंथम की जिंदगी पर आधारित है, जिसने महिलाओं को महावारी में होने वाली समस्याओं से राहत दिलाने के लिए सस्ते सैनिटरी पैड बनाने का काम शुरु किया.
यह भी पढ़ें पीरियड्स में सेनेटरी नैपकिन की उपलब्धता को लेकर सरकारें हुई जागरूक, गोआ और महाराष्ट्र में दिखा एक्शन
फिल्म की कहानी
फिल्म पैडमैन मध्य प्रदेश के रहने वाले लक्ष्मीकांत चौहान (अक्षय कुमार) और उनकी पत्नी गायत्री (राधिका आप्टे) की प्रेम कहानी को दर्शाती है.
जिसमें लक्ष्मीकांत अपनी पत्नी को पीरियड्स में 5 दिन घर में सबसे अलग-थलग देखकर परेशान हो जाते हैं और इसके पीछे की वजह को जानने के बाद वो महिलाओं की इस समस्या के समाधान के लिए सैनेटरी पैड बनाने की कोशिश करते हैं.
फिल्म में पीरियड्स को लेकर लोगों में जागरूकता लाने और एक पुरूष होकर खुद के बनाए पैड को मार्केट में लाने के उतार-चढावों को बारिकी से दर्शाया गया है.
पैडमेन में सोनम कपूर का भी किरदार दर्शको को देखने को मिलेगा जो लक्ष्मी की पीरियड को लेकर जागरूकता फैलाने की इस मुहिम में उनका साथ देते नजर आ रही हैं.
यह भी पढ़ें – #FreePeriods : लंदन में फ्री पीरियड्स अभियान के लिए आगे आईं भारतीय मूल की अमिका जॉर्ज
दर्शकों की रही मिली जुली प्रतिक्रिया
फिल्म के किरदारों और डायलॉग की बात करें तो फिल्म में अक्षय का अभिनय काफी दमदार है और साथ ही उनके डायलॉग और रोमांस ने भी फिल्म को मजेदार बना दिया है.
पैडमेन में गंभीर विषय को काफी सरल तरीके से दिखाया गया है जिससे दर्शकों को फिल्म आसानी से समझ भी आ रही है.
हालांकि दर्शक फिल्म की शुरूआत के कुछ सीन्स में सीटी बजाते दिखे लेकिन बाद में उनका मन फिल्म के कुछ भागों से भागने का भी करने लगा था.
फिल्म के डायलॉग, अभिनय, डायरेक्शन और गाने लोगों की जुबान पर पहले से ही थे मगर फिल्म का धीमापन और उसे काफी गहरे में ले जाना इसकी कमजोर कड़ी है.
फिल्म की मार्केटिंग और डिस्ट्रीब्यूशन के लिहाज से ओपनिंग वीकेंड पर ये फिल्म अच्छी कमाई कर सकती है. लेकिन अगले हफ्ते भी ये लोगों को थियेटर तक खींचने में कितना कामयाब होती है इसके बारे में अभी कुछ कहा नहीं जा सकता.