14 अगस्त को पाकिस्तान क्यों मनाता है अपना स्वतंत्रता दिवस, जानिए इतिहासकारों के तर्क

Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case

Pakistan 72nd Independence Day : मोहम्मद अली जिन्ना को किस बात की थी जल्दी

Pakistan 72nd Independence Day : आज हमारा पड़ोसी और कभी अपना रहा मुल्क पाकिस्तान अपनी आजादी का 72वी सालगिरह मना रहा है,हम सब भारतवासी की तरफ से इस दिन को उसे हार्दिक शुभकामनाएं

वैसे तो दोनों ही देश को ब्आरिटिश हुकुमत से आजादी 15 अगस्त को ही मिली थी लेकिन इसके बावजूद पाकिस्ताम अपना स्वतंत्रता दिवस हम से एक दिन पहले 14 अगस्त को मनाता है.
अब पाकिस्तान क्यों ऐसा करता है इसे लेकर भी कई इतिहासकारों और जानकारों का अलग अलग तर्क है, आइए  जानते हैं पाकिस्तान के पहले स्वतंत्रता दिवस से जुड़े कुछ रोचक तत्व.
पाकिस्तान की नींव रखने वाले मोहम्मद अली जिन्ना के बारे में आप सभी जानते ही होंगे, जी हां वहीं जिन्ना जिनका भारत के दो टुकडे करने में अहम योगदान था.
पढ़ें – ब्लू व्हेल के बाद अब आया “मोमो चैलेंज”, बच्चों का ब्रेन वॉश कर करवा रहा है सुसाइड
एक किताब से हुए कई खुलासे 
मर्डर ऑफ हिस्ट्री नाम की एक किताब के अनुसार एक बिल जिसका नाम इंडियन इंडिपेंडेंस बिल था वो 4 जुलाई को ब्रिटिश संसद में पेश हुआ था और 15  जुलाई को यह बिल पास हुआ था.
बिल के अनुसार भारत की आजादी के लिए 14-15 अगस्त की रात का चयन हुआ था और साथ ही इसी दिन इसके दो टुकड़ों में बांटे जाने पर भी संसद ने मुहर लगाई थी. इसके बाद भारत से अलग होकर एक नया राष्ट्र बना पाकिस्तान
तो ऐसे 14 अगस्त बन गया पाकिस्तान की आज़ादी का दिन

Pakistan 71st Independence Day

दरअसल ब्रिटेन के अंतिम वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन को कराची और दिल्ली दोनों में सत्ता का हस्तांतरण करना था. ब्रिटिश संसद के वो अकेले ऐसे प्रतिनिधि थे जो भारत में थे, ऐसे में उन्हें एक ही दिन दोनों जगह सत्ता सौंपनी थी.
दरअसल,यह सम्भव नहीं था कि लॉर्ड माउंटबेटन एक समय में दोनों जगह पहुँच जाएँ और अगर वो भारत में पहले हस्ताक्षर कर देते तो वो नियम अनुसार भारत के गवर्नर जनरल बन जाते.
इसके लिए एक बीच का रास्ता निकाला गया कि 14 अगस्त को पहले पाकिस्तान की आज़ादी पर हस्ताक्षर होंगे और फिर 15 अगस्त को भारत की आज़ादी.
पढ़ें – जानिये क्या है आर्टिकल 35-A और इसके पक्ष – विपक्ष में कौन सी दलील देते हैं लोग
 जुम्मे का दिन भी बड़ी वजह 
एक रिपोर्ट के अनुसार 1948 में 14 अगस्त को रमजान का पाक महीना चल रहा था और इस दिन 27वां जुम्मा था, कहते हैं कि इसी रात कुरान धरती पर आया था और ये मुस्लिम धर्म के लिए बहुत पवित्र दिन माना जाता है.
इसी वजह से पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को ही मनाया जाने लगा. वहीं कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार 14 अगस्त को जब पाक की आज़ादी पर हस्ताक्षर हुए तो झंडा फहरा दिया गया जिसकी वजह से 14 को ही पाक स्वतंत्रता दिवस मनाने लगा.
यही नहीं कुछ लोग तो यह भी मानते हैं कि पाकिस्तान इसलिए 14 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मानाता है क्योंकि वो यह दिखाना चाहता था कि वो भारत से पहले आज़ाद हुआ था.
खैर जो भी हो फिलहाल सच कोई नहीं जनता है लेकिन आज़दी तो आज़ादी है, चाहे वो कोई भी दिन क्यों ना मनाई जाए