सरदार पटेल जयंती : 10 बातों में जानें क्यों खास है ‘Statue Of Unity’

Sardar Patel Statue Of Unity

Sardar Patel Statue Of Unity : अमेरिका के Statue Of Liberty से दोगुनी ऊंची है सरदार पटेल की प्रतिमा

Sardar Patel Statue Of Unity : भारत के पहले गृहमंत्री और Iron Man के नाम से मशहूर सरदार वल्लभभाई पटेल की आज 143वीं जयतिं पर देश भऱ में भव्य आयोजन किया जा रहा है.

खास बात यह है कि आज उनके जन्मदिन के मौके पर प्रधानमंत्री ने नर्मदा घाट पर बनी उनकी 182मीटर ऊंची प्रतिमा का अनावरण भी कर दिया.
प्रतिमा के उद्घाटन समारोह में आए मेहमानों को संबोधित करते हुए आज पूरा देश राष्ट्रीय एकता दिवस मना रहा है.
किसी भी देश के इतिहास में ऐसे अवसर आते हैं, जब वो पूर्णता का अहसास कराते हैं. उन्होंने कहा कि आज वही पल है जो देश के इतिहास में हमेशआ के लिए दर्ज हो जाता है जिसे मिटा पाना मुश्किल है.
अपने संबोधन में उन्होंने आगे कहा कि करोड़ों भारतीयों की तरह तब मेरे मन में एक ही भावना थी कि जिस व्यक्ति ने देश को एक करने के लिए इतना बड़ा पुरुषार्थ किया हो, उसको वो सम्मान अवश्य मिलना चाहिए जिसका वो हकदार है.
पढ़ें – नहीं भूला 31 अक्टूबर 1984 का वो दिन जब भारत ने खोई अपनी दुर्गा
पीएम मोदी ने लोगों से अपील करी कि भारतीय इंजीनियर राम सुतार की अगुवाई में देश के अद्भुत शिल्पकारों की टीम ने कला के इस गौरवशाली स्मारक को पूरा किया है, जिसे देखने के लिए दुनिया के हर इंसान को भारतीय सरजमीं पर आना होगा.

http://

10 बातों में जानें क्यों खास है Statue Of Unity
1- ये प्रतिमा विश्व की अब तक की सबसे उंची चीन स्थित स्प्रिंग टेंपल की भगवान बुद्ध की 153 मीटर मूर्ति के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है. बता दें कि Statue Of Unity की लंबाई 182 मीटर है जो अमेरिका के Statue Of Liberty से दोगुनी ऊंची है
2. मूर्ति बनाने वाली कंपनी लार्सन एंड टुब्रो ने दावा किया है कि ये प्रतिमा महज 33 महीने में बनकर तैयार हुई जो अपने आप में एक नया रिकार्ड है. क्योंकी स्प्रिंग टेंपल के बुद्ध की मूर्ति के निर्माण में चीन को 11 साल का वक्त लगा था.
3. मूति को बनाने में लगभग 2,989 करोड़ रूपए का खर्च आया है,जिसमें देश के आम नागरिकों से लेकर किसानों  ने भी चंदे के तौर पर इससे बनवाने के अपना छोटा छोटा योगदान दिया है.
4. मूति की आधारशीला 31 अक्टूबर 2013 को उस समय के गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी थी, जिसके बाद बीजेपी ने पूरे देश में लोहा इकट्ठा करने का अभियान भी चलाया गया.

Sardar Patel Statue Of Unity

5. मूति को बनाने वाले रामसुतार 2006 में पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित हैं. इसके अलावा वे बांबे आर्ट सोसायटी के लाइफ टाइम अचीवमेंट समेत अन्य कई पुरस्कार से भी नवाजे गए हैं.
यही नहीं वो इन दिनों मुंबई के समुंदर में लगने वाली शिवाजी की प्रतिमा की डिजाइन भी तैयार करने में जुटे हैं.
पढ़ें – Indonesia Lion Plane Crash : समंदर में लापरवाही की भेंट चढ़ गई 189 जिंदगियां !
6. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का कुल वजन 1700 टन है और ऊंचाई 522 फिट यानी 182 मीटर है. इसके पैर की ऊंचाई 80 फिट, हाथ की ऊंचाई 70 फिट, कंधे की ऊंचाई 140 फिट और चेहरे की ऊंचाई 70 फिट है.
7. इस प्रतिमा को गुजरात के अहमदाबाद में नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर बनाया गया है.

Sardar Patel Statue Of Unity

8. इस मूर्ति में दो लिफ्ट भी लगी है, जिनके माध्यम से आप सरदार पटेल की छाती परपहुंचेंगे और वहां से सरदार सरोवर बांध का नजारा और खूबसूरत वादियों को निहारने का लुत्फ उठा सकेंगे .
9. यह स्टैच्यू 180 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चलने वाली हवा में भी स्थिर खड़ा रहेगा और साथ ही 6.5 तीव्रता के भूकंप के झटके झेलने में भी समर्थ है.
10. इस मूर्ति के निर्माण में भारतीय मजदूरों के साथ 200 चीन के कर्मचारियों ने भी हाथ बंटाया है.