कॉमनवेल्थ खेलों के 9वें दिन भारतीय खिलाडियों ने तोड़ें कई रिकार्ड, मेडल की कुल संख्या 42 पहुंची

CWG 2018 Day 9 Medal Win List

CWG 2018 Day 9 Medal Win List : मेडल जीतने की शुरुआत हुई शूटिग रेंज से और अंत बॉक्सिंग के रिंग में जाकर हुआ.

CWG 2018 Day 9 Medal Win List : कॉमनवेल्थ खेलों का 9 वां दिन भारत के लिए कई क्षेत्रों में खुशखबरियां लेकर आया, देश के लिए मेडल जीतने की शुरुआत हुई शूटिग रेंज से और अंत बॉक्सिंग के रिंग में जाकर हुआ.

बता दें कि भारत ने आज सिर्फ मेडल ही नहीं जीते बल्कि कई रिकॉर्ड भी अपने नाम किए. भारत की मौमा दास और मनिका बत्रा ने पहली बार देश को टेबल टेनिस में सिल्वर दिलाया तो वहीं अनीश भानवाल भारत के सबसे युवा मेडलिस्ट बन गए.
आइए जानते हैं किन खिलाड़ियों ने कॉमनवेल्थ खेलों के 9वें दिन बढ़ाया भारत का मान….
तेजस्विनी सावंत और अंजुम मुदंगिल – ऑस्ट्रेलिया के गोल्डकोस्ट में जारी कॉमनवेल्थ गेम्स के नौंवे दिन भी भारतीय खिलाड़ियों का जलवा कायम रहा.
शुक्रवार की सुबह निशाने बाजी में भारत की तेजस्विनी सावंत ने गोल्ड और अंजुम मुदगिल ने सिल्वर मेडल जीतकर देश का मान बढ़ाया है. तेजस्विनी ने भारत के लिये यह 15वां गोल्ड मेडल जीता है इसके साथ ही अब कुल पदकों की संख्या हमारे पास 33 पहुंच गई है.
इस मुकाबले में भारत की तेजस्विनी ने कुल 457.9 अंक हासिल किए जो कॉमनवेल्थ गेम्स में एक नया रिकॉर्ड है.
वहीं अंजुम ने 455.7 अंकों के साथ सिल्वर मेडल जीतकर देश का मान बढ़ाया है. इस मुकाबले में स्कॉटलैंड की सियोनेड मिकतोश 444.6 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहीं जिन्हें ब्रांज मेडल से संतोष करना पड़ा.
यह भई पढ़ें – जानिए, कॉमनवेल्थ खेलों के 8वें दिन किन खिलाड़ियों नें भारत को दिलाया मेडल
बजरंग पूनिया – बजरंग ने पुरुषों की 65 किलोग्राम ईवेंट के फाइनल में वेल्स के केन चारिग को मात देकर सोना जीता. यह उनके राष्ट्रमंडल खेलों का पहला स्वर्ण पदक है.
इससे पहले साल 2014 में बजरंग ने ग्लास्गो में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में 61 किलोग्राम वर्ग में स्पर्धा करते हुए रजत जीता था और इस बार वह इन खेलों में अपने पदक के रंग को बदलने में कामयाब रहे.

अनीश भानवाल – शुक्रवार को 15 वर्षीय अनीश बनवाल ने अपनी पिस्टल से चमत्कारिक प्रदर्शन करते हुए 25 मीटर रैपिड फायर फाइनल्स में गोल्ड मेडल जीता है.

अनीश ने कॉमनवेल्थ गेम्स में पदार्पण करते ही दो नए रिकॉर्ड भी कायम कर दिए. पहला अनीश ने 2014 में ग्लाग्सो में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में आस्ट्रेलिया के डेविड चापमान की ओर से बनाए रिकॉर्ड को तोड़ दिया और दूसरा अनीश सबसे कम उम्र में गोल्ड मेडल जीतने वाले भारतीय खिलाड़ी भी बन गए हैं.
इससे पहले यह रिकोर्ड मनु भाकर के नाम था जिन्होंने इन्हीं गेम्स में 16 की उम्र में गोल्ड जीतने का कारनामा किया था.
मौमा दास और मनिका बत्रा – शनिवार की दोपहर को गोल्ड कोस्ट से मनिका बत्रा और मोर्ना दास ने टेबल टेनिस के डबल्स मुकाबले में शानदार प्रदर्शन करते हुए सिल्वर मेडल अपने नाम किया. इस शानदार मैच में भारतीय खिलाड़ियों ने मलेशिया की खिलाड़ियों को मात दी. वहीं इस खेल में यह भारत का अब तक का पहला मेडल है.
पूजा ढांढा – भारत की रेसलर पूजा ढांढा को महिलाओं के 57 किग्रा वेट कैटगिरी के फाइनल में सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा. इस बेहद रोमांचक मुकाबले में वे नाइजीरियाई पहलवान से फाइनल हार गईं.
नमन तंवर – भारत के 19 साल के मुक्केबाज नमन तंवर 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में नौवें दिन शुक्रवार को पुरुषों की 91 किलोग्राम स्पर्धा के सेमीफाइनल में हार गए. हालांकि, इस हार के बावजूद नमन ने ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा कर लिया है.
भारत के इस युवा मुक्केबाज नमन ने अपने से आठ साल अधिक बड़े और अधिक अनुभवी मुक्केबाज ऑस्ट्रेलिया के जेसन व्हाटली को कड़ी टक्कर दी, लेकिन कम अनुभव होने के कारण 4-0 से हार गए.
यह भी पढ़ें कॉमनलेस्थ खेलों के सांतवे दिन भारत की झोली में गिरे 3 मेडल, जानें किसकी थी मेहनत
दिव्या काकरन – 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स में दिल्ली की रहने वाली दिव्या काकरन ने शुक्रवार को 68 किलोग्राम फ्रीस्टाइल कुश्ती में देश के लिए ब्रॉन्ज मेडल जीता.
दिव्या ने बांग्लादेशी रेसलर शेरीन सुल्ताना को सिर्फ 36 सेकंड में हरा दिया. जीत के बाद इस 19 साल की रेसलर की ताकत और तकनीक की तारीफ हुई.
हालांकि, दिव्या का कॉमनवेल्थ गेम्स तक का सफर आसान नहीं रहा. रेसलिंग में आने से पहले दिव्या को दंगल में लड़कों को हराने के लिए जाना जाता था। जब वे कुश्ती में दांव लगाकर इनाम जीत रही होती थीं, उस वक्त उनके पिता स्टेडियम और अखाड़ों के बाहर लंगोट बेच रहे होते थे ताकि बेटी की ट्रेनिंग के लिए पैसे जुटा सकें।
मौसम खत्री – भारत के मौसम खत्री को पुरुषों के 97 किलोग्राम वर्ग स्पर्धा के फाइनल में हार झेलनी पड़ी. मौसम खत्री को दक्षिण अफ्रीका के मार्टिन एरासमस ने करारी शिकस्त दी, जिसके कारण भारतीय खिलाड़ी को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा.
पहले राउंड में दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी ने 12 टेक्निकल प्वाइंट हासिल किए, जबकि मासूम केवल दो अंक ही अर्जित कर पाए.