41 लाख आबादी और देश में खराब हालात, तुमने हार कर भी बहुत कुछ जीत लिया क्रोएशिया

Fifa World Cup Croatia

Fifa World Cup Croatia : फाइनल मुकाबले में हार से पहले अजेय रहा क्रोएशिया 

Fifa World Cup Croatia : केवल 4.1 मिलियन(41लाख) की आबादी वाले क्रोएशिया को फाइनल में देखने की उम्मीद शायद ही किसो को थी. लेकिन वर्ल्ड कप में एक अंडरडॉग से फाइनल में पहुंची इस टीम ने सारे मिथक तोड़ दिए

बता दें कि साल 1950 में उरुग्वे के बाद से विश्वकप फाइनल में पहुंचने वाला क्रोएशिया सबसे छोटा देश बन गया है.
क्रोएशिया इस टूर्नामेंट में पहली बार फाइनल में पहुंचा था और यहां तक आने के लिए उसने अपनी तरफ से हर संभव प्रयास किए .
शुरूआत से ही टीम ने जिस तरह अपने कौशल, रणनीति और एकजुटता से विरोधी खेमों को हराने का काम किया उसे देखकर कोई भी कह सकता था कि इस टीम का लक्ष्य अर्जुन की तरह साफ है.
हालांकि कल हुए फाइनल मुकाबले में फ्रांस से हारकर इस टीम को उप विजेता बनकर ही संतोष करना पड़ा.
पढ़ें आखिर क्यों भारत फीफा विश्व कप में नहीं खेल पाया अब तक एक भी मैच, जानिए
खराब हालातों में टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया
दरअसल क्रोएशिया में किसी भी खेल में सरकार द्वारा इतना भी निवेश नहीं किया जाता कि वो अपने खेलने के लिए बेहतर संसाधनों को प्राप्त कर सकें.
इसके अलावा देश में भ्रष्टाचार का प्रकोप भी इतना है कि खेल जगत भी उससे अछूता नहीं रह पाया है.
अभी हाल ही में वर्ल्ड कप से एक महीने पहले ही क्रोएशिया के फुटबॉल जगत के तीन सबसे बड़े लोगों में से एक जडारनको मामिक को जेल की सजा दी गई है. उसके अलावा टीम के कप्तान मोड्रिच पर भी कानूनी केस चल रहा है.
यही नहीं देश में बेरोजगारी और बेहतर भविष्य बनाने के कारण कई युवा क्रोएशिया छोड़कर दूसरे देशों में पलायन कर रहें.
लेकिन इस माहौल के बावजूद टीम ने हार नहीं मानी और ना सिर्फ वर्ल्ड कप खेलनें पहुंची बल्कि पूरे टर्नामेंट में अजेय रहते हुए फाइनल में अपनी जगह बनाई.
इस उपलब्धि के पीछे सबसे बड़ा हाथ था टीम के कप्तान लुका मोड्रिच का क्योंकी उन्होंने टीम को जिस तरह एक जुट रखा उसे देखकर हर कोई हैरान था.
आपको जानकार हैरानी होगी इस टीम ने स्टार स्ट्राइकर लियोनेल मेसी की अर्जेंटीना जैसी टीम को 3-0 से हराया है.
गौरतलब है कि क्रोएशिया ने फाइनल में अपने डेब्यू के साथ ही दुनिया भर के लोगों के दिलों में बड़ी जगह जरूर बना ली.
कल तक शायद जिस देश का नाम भी कोई नहीं जानता आज इन खिलाड़ियों की वजह उसे एक अलग पहचान मिल गई. और सबसे बड़ी खास बात यह है कि ये टीम अपनी परेशनियों से नहीं इरादों से दुनिया को मात दे रही है.

Fifa World Cup Croatia

कैसा रहा फाइनल मुकाबला
कल हुए फाइनल मुकाबले में खेल की जिस तरह से शुरुआत हुई उससे क्रोएशिया का पलड़ा ही भारी लग रहा था.
क्रोएशिया के मारियो मांदुकिच के आत्मघाती गोल के बाद लगा कि वह पिछले तीन मैचों की तरह इस मैच में भी अपनी किस्मत बदलने में सफल हो जाएगी.
मगर फ्रांस के सितारे शायद उससे ज्यादा मजबूत थे उसने 27 मिनट में ग्रीजमैन, पॉल पोग्बा और किलियन एमबापे के गोलों से 4-1 की बढ़त बनाकर मैच को क्रोएशिया से दूर कर दिया.
इस तरह फ्रांस एक से ज्यादा बार फीफा विश्व कप को जीतने वाली दुनिया की छठी टीम बन गई है. टीम को इनाम राशि के तौर पर 256 करोड़ रूपए मिले वहीं उपविजेता रही टीम क्रोएशिया को 189 करोड़ रुपए की ईनामी राशि दी गई.
पढ़ें – क्या है ये “यो-यो टेस्ट”, जो प्लेइंग 11 में रोकता है भारतीय क्रिकेटरों का रास्ता
किसे मिली गोल्डन बॉल
क्रोएशिया के कप्तान मोड्रिच को उनके बेहतर प्रदर्शन के लिए गोल्‍डन बॉल दी गई जबकि बेल्जियम के इडन हजार्ड को रनरअप के रूप में सिल्‍वर बॉल और फ्रांस के एंटोनी ग्रिजमैन को ब्रॉन्‍ज बॉल दी गई.
फ्रांस के 19 साल के स्‍टार काइलिन एमबाप्‍पे को फाइनल में चौथा गोल करने के बाद टूर्नामेंट का बेस्‍ट यंग प्‍लेयर चुना गया. बता दें कि एमबाप्‍पे 1958 में पेले के बाद फाइनल में गोल करने वाले सबसे यंग प्‍लेयर बन गए हैं.