जानिए आखिर क्यों अहम है लॉर्ड्स का मैदान, कहलाया जाता है क्रिकेट का मक्का

Lords Cricket Stadium History Records

Lords Cricket Stadium History Records : बड़े रिकॉर्डों का गवाह है, हर खिलाड़ी का सपना होता है यहां खेलना

Lords Cricket Stadium History Records : हमारे देश में क्रिकेट एक ऐसा खेल जो शायद यहां के हर नागरिक की रगों में बसा है,इसकी अहमियत हमारे अंदर इस कदर है कि अब ये हम सबके लिए एक पवित्र महजब के समान बन गया है.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारे इस धर्म का मंदिर भारत से सात समंदर पार इंग्लैंड में है.
जी हां, इंग्लैंड की जन्मभूमि पर बसा ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान को ही क्रिकेट का मंदिर  कहा जाता है. वहीं इसको चाहने वाले कुछ लोग इसे क्रिकेट का मक्का भी कहते हैं.
लेकिन यहां सवाल यह है कि क्यों दुनिया भर के स्टेडियमों को छोड़कर लार्ड्स के प्रति लोगों की ऐसी मान्यता है, जानिए इस खबर में
एमसीसी का है होम ग्राउंड
लॉर्ड्स का क्रिकेट मैदान बेहद एतिहासिक है यहां  दिग्गज खिलाड़ियों के रिकॉर्डों के अलावा भी इसकी खासा एहमियत है.
बता दें कि इस मैदान का नाम इसके फाउंडर थॉमस लॉर्ड के नाम पर रखा गया था. वहीं क्रिकेट के सबसे बड़े औऱ अहम मेरिलियबोन क्लब का होम ग्राउंड होना भी इसे खास बनाता है .
यह क्लब क्रिकेट का सबसे पुराना क्बल है और ऐसा माना जाता है कि यहीं से क्रिकेट की शुरुआत हुई थी.
पढ़ें – भारत के U19 प्लेयर पवन शाह के बल्ले ने जो किया वो कोहली और धोनी भी नहीं कर सके
22 जून 1814 को पहली बार मेरिलबोन क्रिकेट क्लब बनाम हर्टफोर्डशायर के बीच में यहां मैच खेला गया था इसके बाद से यह क्लब यहां सक्रिय है.
खास बात यह है कि इस क्लब के पास क्रिकेट के नियमों का बदलने का अधिकार है. आज भी क्रिकेट का कोई नियम बिना एमसीसीस की मंजूरी के लोगू नहीं किया जा सकता है
इसके अलावा यह मिडल एस्क्स काउंटी क्रिकेट क्लब, इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट क्लब और यूरोपियन क्रिकेट काउंसिंल का भी होम ग्राउंड रहा है. यही नहीं साल 2005 तक यह ग्राउंड आईसीसी का भी मुख्यालय हुआ करता था.

Lords Cricket Stadium History Records

बड़े रिकॉर्डों का गवाह
1) सीमियर प्लेयर सर डॉन ब्रैडमैन ने साल 1930 में 254 रनो की ऐतिहासिक पारी इसी ग्राउंड में खेली थी. उनका यह रिकॉर्ड 60 सालो के बाद ग्राहम गूच ने तोड़ा था.
2) इयान बॉथम ने साल 1978 में एक पारी में आठ विकेट लेने का रिकॉर्ड भी यहीं कायम किया था.
3) इंग्लैंड-ऑस्ट्रेलिया के बीच शुरू हुई एशेज प्रतियोगिता भी इसी मैदान की देन हैं.
4) लॉर्ड्स में अब तक तीन वर्ल्ड कप फाइनल खेले जा चुके हैं जो भी अपने आप में एक अनोखा रिकॉर्ड है.
5) वहीं 137 टेस्ट मैचों की मेजबानी भी इसे एतिहासिक बनाती है.
6) लॉर्ड्स में शतक औऱ पांच वेकिट लेने वाले खिलाड़ियों का नाम ऑनरी बोर्ड पर दर्ज होता है जो कि हर खिलाड़ी का सपना रहता है.

Lords Cricket Stadium History Records

ऐंडरसन लॉर्डस में 100 विकेट लेने वाले बने पहले बॉलर 
फिलहाल इस एतिहासिक मैदान में भारत और इंग्लैड के बीच दूसरे टेस्ट का मैच खेला जा रहा है. रविवार को खेले जा रहे चौथे दिन के मैच में इंग्लैंड ने सात विकेट पर 396 रन बनाकर अपनी पहली पारी घोषित कर दी और 289 रन की बढ़त हासिल कर ली है.
वहीं भारत ने इसके जवाब में लंच तक 17 रन पर दो विकेट गंवा दिए हैं और इंग्लैंड के स्कोर से 272 रन पीछे हैं.
पढ़ें – क्या है ये “यो-यो टेस्ट”, जो प्लेइंग 11 में रोकता है भारतीय क्रिकेटरों का रास्ता
मैच की दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद ही खराब रही सलामी बल्लेबाज मुरली विजय जहां बिना खाता खोले ही आउट होकर पवेलियन लौट गए.
वहीं उनके जाने के बाद महज 10 रन पर लोकेश राहुल स्टेडियम से चलते बने.
बता दें कि भारतीय टीम के ओपनर मुरली वजह का विकेट लेकर इंग्लैंड के तेज गेंदबाज ऐंडरसन लॉर्डस में 100 विकेट लेने वाले पहले गेदबाज बन गए हैं.