BWF वर्ल्ड टूर फाइनल जीतकर पीवी सिंधु ने रचा नया कीर्तिमान, बनीं पहली भारतीय

PV Sindhu World Tour Final
PC - Social

PV Sindhu World Tour Final : जापान की ओकुहारा को हरा जीता ये खिताब और लिया पिछले साल का बदला

PV Sindhu World Tour Final : भारत की करिश्माई बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने खेल जगत में देश का सिर एक बार फिर फक्र से ऊंचा करने का काम किया है.

दरअसल स्टार शटलर सिंधु ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को हराकर वर्ल्ड टूर फाइनल्स का खिताब अपने नाम कर लिया है.
रविवार 16 दिसंबर को चीन में खेले गए महिला सिंगल के फाइनल मुकाबले में पीवी सिंधु ने इस उपलब्धि को हासिल किया.
बता दें कि सिंधु ने जापानी खिलाड़ी ओकुहारा को 21-19, 21-17 से हराकर इस टूनामेंट का खिताब जीत है.
खास बात यह है कि पहली बार शटलर सिंधु ने विश्व टूर फाइनल्स (BWF World Tour Finals 2018) के खिताब पर कब्जा जमाया है.साथ ही इस टूर्नामेंट में जीतने वाली पहली भारतीय शटलर भी बन गई हैं. 
पढ़ें – शानदार कामयाबी और संघर्षशील जीवन, 6वीं बार विश्व चैंपियन बनी ‘मैरीकॉम’ का कुछ ऐसा है सफर
यही नहीं इस खिताब को जीतने के साथ ही सिंधु ने 14वां  और इस सीजन का पहला खिताब अपने नाम कर लिया है
मजे की बात तो ये रही कि पिछले साल यानी की 2017 में सिंधु को फाइनल मुकाबले में ओकुहारा से ही हार मिली थी जिसका बदला उन्होंने इस साल उन्हें हराकर ले लिया.
इस तरह रहा फाइनल मुकाबला
पहला गेम – 
पहले मैच में सिंधु ने काफी आक्रामता से ओकुहारा के हर शॉट को खेला. शुरूआत में सिंधु 5-1 से आगे थी लेकिन फिर जापानी खिलाड़ी ने अच्छा खेल दिखाते हुए स्कोर में बढ़त बनाते हुए उसे 7-5 कर दिया.
हालांकि कुछ ही मिनटों में सिंधु ने बैक किया और ब्रेक तक स्कोर 11-6 करके ओकुहारा से आगे निकल गई.
ब्रेक के बाद सिंधु ने अपनी बढ़त बनाई रखी और स्कोर को 14-6 कर दिया. लेकिन तभी ओकुहारा ने जबरदस्त वापसी करते हुए सिंधु के खेल को रोकने की कोशिश करी और स्कोर 16-16 की बराबरी पर पहुंचा दिया.
दोनों खिलाड़ी आपस में एक दूसरे को बैडमिंटन कोर्ट में कड़ी टक्कर दे रही थी. सिंधु ने 20-17 की बढ़त बना ली तभी ओकुहारा ने दो पॉइंट्स जीतकर मैच में रोमांच बढ़ा दिया.
हालांकी पहले गेम की समाप्ति पर शानदार ड्राप शाट खेलकर सिंधु ने पहला गेम 21-19 से अपने नाम कर लिया.

पढ़ें – कभी भरपेट भोजन के लिए करता था गेंदबाजी, अब मिला यह बड़ा मौका

दूसरा गेम –
पहले गेम की तरह दूसरे गेम में भी सिंधु ने अपनी आक्रामता बरकरार रखी उन्होंने 5-2 से एक अच्छी शुरूआत करी और चेंजओवर के समय 11-9 से आगे थीं.
सिंधु के पास दूसरे गेम में 20-17 की बढ़त थी और उन्होंने पहले ही मौके में अंक हासिल कर लंबे समय से चले आ रहे किसी खिताब या स्वर्ण पदक जीतने के सूखे को समाप्त कर दिया.
गौरतलब है कि ये मुकाबला दुनिया की 5वीं और 6वें नंबर के खिलाड़ी के बीच था जिसमें सिंधु ने अपनी जीत का परचम लहरा दिया.
एशियन गेम्स में मिला था रजत
इसी साल 28 अगस्त 2018 को बैडमिंटन एकल फाइनल मुकाबले में खिलाड़ी पीवी सिंधु को विश्व नंबर 1 ताइ जू यिंग से हारकर रजत से संतोष करना पड़ा था.
ताइवान की ताई ज़ू यिंग ने बैडमिंटन के महिला एकल फाइनल में सिंधु को 21-13, 21-16 से मात दी है.
बीते फाइनल मुकाबलों में मिल रही थी हार
ज्ञात हो भारतीय सिंधु शटलर का पिछले 2 सालों में फाइनल में पहुंचकर हारने का सिलसिला थम हीं नहीं रहा था.
कई बड़े टूर्नामेंटो में वो अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद फाइनल में आकर हार जा रही थी,देखें लिस्ट…
2016 रियो ओलंपिक में कैरोलिना मारिन ने सिंधु को हराया
2017 वर्ल्ड चैंपियनशिप में नोजोमी ओकुहारा से वो हार गई
2017 सुपर सीरीज फाइनल में अकाने यामागुची से हारीं
2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में साइना नेहवाल ने मात दी
2018 वर्ल्ड चैंपियनशिप में कैरोलिन मारिन ने हराया
 इंडिया ओपन 2018 में बीवेन झेंग ने शिकस्त दी.
2018 एशियन गेम्स ताइवान की खिलाड़ी ताइ जू यिंग ने एक बार फिर उन्हें फाइनल में उन्हें हार का मुंह दिखाया