मिजोरम के जेरमी ने यूथ ओलिंपिक में गोल्ड जीतकर तोड़ा सालों का मिथक

jeremy lalrinnunga first glod medalist

Youth Olympic Weightlifter Jeremy Won Gold : अब तक किसी भी खिलाड़ी ने नहीं दिलाया था भारत को गोल्ड

Youth Olympic Weightlifter Jeremy Won Gold : यूथ ओलंपिक में सालों से चला आ रहा गोल्ड जितने का सूखा मंगलवार को जाकर भारत के लिए खत्म हो गया.

बता दें कि भारत को इस टूर्नामेंट में अब तक पहला गोल्ड मेडल हासिल हुआ, 15 साल के आइजोल(मिजोरम) के युवा प्रतिभागी जेरेमी लीलरनुंगा ने देश को टूर्नामेंट में 62 किलो ग्रोम वर्ग में यह मेडल हासिल किया जो एक इतिहास बन गया है.
ऐसा इसलिए क्योंकी अभी तक किसी ने भी यूथ ओलंपिक में भारत के लिए सोना नहीं जीता था.
पढ़ें – एशियाई गेम्स 2018 हुए समाप्त, जानिए कैसा रहा भारत का सफर
जेरेमी ने यह सफलता 274 किलो (124 और 150) किलो वजन उठाकर हासिल करी, वहीं रजत पदक तुर्की के तोपटास कानेर और कांस्य पदक कोलंबिया के विलार एस्टिवन जोस को मिला.

http://

ज्ञात हो जेरेमी ने विश्व युवा चैम्पियनशिप में भी रजत पदक जीता था.
गौरतलब है कि जेरेमी के पिता लालनेइतलुंगा खुद एक पूर्व बॉक्सर हैं और  राष्ट्रीय स्तर पर सात गोल्ड मेडल जीत चुके हैं.
अपने पिता से प्रेरणा लेकर जेरेमी भी बॉक्सर बनना चाहते थे लेकिन कोचों की सलाह पर उन्होंने वेटलिफ्टिंग में डेब्यू किया. महज 8 साल की उम्र मे ही जेरेमी को 2011 में सैन्य खेल संस्थान के लिए चुना गया था
इस मेडल के बाद भारत का युवा ओलिंपिक में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन तय हो गया . बता दें कि भारत चार मेडल पहले ही जीत चुका है.
पढ़ें – Forbes India : जानें 2018 में कौन है भारत के टॉप 10 अमीर और क्या है उनकी नेटवर्थ
तुषार माने और मेहुली घोष ने 10 मीटर एयर राइफल में सिल्वर मेडल जीता जबकि जूडो में टी तबाबी देवी ने 44 किलो वर्ग में दूसरे स्थान पर रहकर भारत को सिल्वर मेडल दिलाया.
पिछले मुकाबलों की बात करें तो भारत ने 2014 में नानजिंग युवा ओलिंपिक में एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता था जबकि 2010 में सिंगापुर में छह सिल्वर और दो ब्रॉन्ज मेडल जीते थे