A- SAT : भारत बना स्पेस जगत का सुपरपावर, क्या है इस कामयाबी के मायने

Anti Satellite Mission Shakti
demo pic

Anti Satellite Mission Shakti : अब हम स्पेस जगत के सुपरपावर देशों में शामिल हो गए हैं.

Anti Satellite Mission Shakti : भारत ने अंतरिक्ष में अपनी कामयाबी का परचम लहराते हुए दुनिया को एक बार फिर चौंका दिया है.

बड़ी खुशी के साथ आपको बताने चाहेंगे कि इस उपलब्धि के बाद अब हम स्पेस जगत के सुपरपावर देशों में शामिल हो गए हैं.
दरअसल भारत ने अंतरिक्ष के लोअर आर्बिट में करीब 300 किमी की ऊंचाई पर स्थित सैटेलाइट को एंटी सैटेलाइट मिसाइल से अटैक कर धव्स्त कर दिया है.
हमारे देश के वैज्ञानिकों ने महज 3 मिनट में मिशन शक्ति अभियान के तहत इस पूरे ऑपरेशन को अंजाम दिया है.
बता दें की मिशन शक्ति की सफलता के बाद भारत अमेरिका, रुस और चीन के बाद ऐसी शक्ति हासिल करने वाला दुनिया का चौथा स्पेस सुपरपावर देश बन गया है.
पीएम मोदी ने अबसे कुछ देर पहले राष्ट के नाम संबोधन में DRDO के वैज्ञिनकों द्वारा हासिल इस कामयाबी के बारे में बताया.
पीएम ने कहा की आज 27 मार्च को भारत ने एक बडी उपलब्धि हासिल किया है और अपना नाम अंतरिक्ष पावर के रूप में दर्ज करा लिया है.
उन्होंने बताया कि अब तक दुनिया के तीन देश अमेरिका, चीन और रूस को पहले से यह उपलब्धि हासिल थी, मगर आज भारत आज चौथा देश बन गया है.
क्या है इस कामयाबी के असल मायने
सबसे पहले ये भारत की सुरक्षा, आर्थि‍क तरक्की और टेक्नोलॉजी में उन्नति के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण कदम है.
जैसा की आप सभी जानते होंगे कि हमारे पड़ोसी देश चीन के पास ऐसी शक्ति पहले से ही थी जिससे हमारे लिए अंतरिक्ष में जोखिम काफी बढ़ गया था.
ऐसे में इस परीक्षण से भारत ने चीन समेत विश्व को एक तरह से चेतावनी दी है कि अगर किसी ने भी सैटेलाइट वार करने की कोशिश करी तो हमारी एंटी सैटेलाइट मिसाइल उसके सैटेलाइट को कुछ ही मिनटों में अंतरिक्ष में ही तबाह कर देगी.
जो विज्ञान के विद्यार्थी हैं वो इस बात को जानते होंगे की लो ऑर्बिट पृथ्वी से 160 किमी से लेकर 2 हजार किलोमीटर के बीच की ऊंचाई पर मौजूद एक कक्षा होती है, भारत ने इसी ऑर्बिट में 300 किलोमीटर दूरी पर मौजूद सैटेलाइट को मार गिराया है.
गौरतलब है कि संचार, कृषि, आपदा प्रबंधन, मौसम, नेविगेशन जैसे क्षेत्रों में कई देशों ने अंतरिक्ष में सैटेलाइट लांच करी है. लेकिन एंटी सैटेलाइट मिसाइल के इस्तेमाल की टेक्नोलॉजी सिर्फ अब तक तीम ही देशों के पास थी और अब चौथा भारत बन गया है.
आखिरी बार 2007 में चीन ने का परीक्षण किया था, जिसने लोवर आर्बिट में 865 किमी की ऊंचाई पर एक सैटेलाइट को नष्ट कर दिया था.