अंतरिक्ष में भारत की एक और छलांग, दुश्मनों पर नजर रखने वाले EMISAT की हुई सफल लांचिंग

ISRO EMISAT Satellite Launch
PC - ISRO

ISRO EMISAT Satellite Launch : आज सुबह 9.27 मिनट पर हुई लांचिंग

ISRO EMISAT Satellite Launch : कुछ दिनों पहले जिस तरह दुनिया ने अंतरिक्ष में भारत की ताकत का नजारा देखा था,ठीक वैसे ही एक बार फिर पूरा विश्व स्पेस में हमारी नई कामयाबी का गवाह बना है.

जी हां आज सुबह 9.27 मिनट पर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से PSLV C-45 रॉकेट की मदद से इलेक्ट्रॉनिक इंटेलीजेंस उपग्रह EMISAT को अंतरिक्ष में भेजने का नया कीर्तिमान रचा है.
बता दें कि इस लांचिंग का मुख्य उद्देश्य स्पेस से दुष्मनों की देश के खिलाफ की जाने वाली हर गतिविधियों पर नजर रखना है.
पढ़ें – 1 अप्रैल से कई नियमों में होने जा रहे बदलाव, जानें आप पर क्या पड़ेगा असर
एक साथ 28 उपग्रह हुए लांच
गौरतलब है कि इसरो ने EMISAT के अलावा अपने रॉकेट के जरिए दूसरे देशों के भी 28 सैटलाइट्स अंतरिक्ष की कक्षा में स्थापित किया है.
इनमें अमेरिका के 24, लिथुआनिया का 1, स्पेन का 1 और स्विट्जरलैंड का 1 सैटलाइट शामिल है.
बता दें कि पहले PSLV C-45 ने 749 किलोमीटर की कक्षा में EMISAT को स्थापित किया फिर इसके बाद 04 किलोमीटर ऑर्बिट पर 28 अन्य सैटलाइट्स को लॉन्च किया गया.
इस पूरे उड़ान क्रम में 180 मिनट लगें है, और इनका कुल वजन 656 किलोग्राम है.
पहली बार आम लोगों ने भी देखा लाइव लांचिंग
ऐसा पहली बार हुआ है जब इसरो ने आम लोगों के लिए इस लांच को खोला है.सोमवार यानी की आज करीब 1000 लोगों ने इस लांचिंग को लाइव अपनी आंखों से देखा .
बता दें कि दुनिया में ऐसा अभी तक अमेरिकी एजेंसी नासा ही करती थी, जहां वो आम लोगों के लिए इस तरह के प्रक्षेपण को खुला रखती थी.
पढ़ें – A- SAT : भारत बना स्पेस जगत का सुपरपावर, क्या है इस कामयाबी के मायने
सुरक्षा के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण
जैसा की हमने पहले ही आपको बताया है कि इस सैटेलाइट को सुरक्षा के लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है.
दरअसल EMISAT बार्डर पर मानवीय बल्कि संचार से जुड़ी किसी भी तरह की गतिविधि पर नज़र रखने में सक्षम है.इसे इसरो और डीआरडीओ दोनों ने मिलकर बनाया है.