देश का सबसे वजनी सैटेलाइट GSAT 11 लांच, इस तरह घरों में देगा इंटरनेट की हाई स्पीड

ISRO Satellite GSAT 11

ISRO Satellite GSAT 11 : दक्षिणी अमेरिका के फ्रेंच गुयाना स्पेस सेंटर से फ्रांस के एरियन-5 रॉकेट की मदद से लांच किया गया.

ISRO Satellite GSAT 11 : भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो ने एक और सफलता हासिल करते हुए देश का अब तक का सबसे भारी सैटेलाइट जीसैट-11 को लांच कर दिया.

बुधवार तड़के 02 बजकर 07 मिनट पर इसे दक्षिणी अमेरिका के फ्रेंच गुयाना स्पेस सेंटर से फ्रांस के एरियन-5 रॉकेट की मदद से लांच किया गया.
बता दें कि इस उपग्रह का वजन करीब 5,854 किलोग्राम है जो कि भारत का अब तक का सबसे भारी सैटेलाइट है.
वैज्ञानिकों के मुताबिक अगर जीसैट 11 पृथ्वी की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित हो जाता है तो यह देश के टेलिकॉम सेक्टर खासकर ग्रामीण भारत में ब्रांडबैंड सेवाएं उपलब्ध कराने में काफी अहम होगा.
पढ़ें ISRO ने PSLV C-43 के जरिए लांच किए 8 देशों के 30 उपग्रह, वीडियो में देखें सफलता
GSAT 11 अगली पीढी का हाई थ्रुपुटसंचार उपग्रह है जो की 15 साल से ज्यादा समय तक काम करेगा.

https://

इस तरह देगा हाई स्पीड
इसरो ने बताया कि इससे इंटरनेट की कनेक्टिविटी तो ज्यादा हिस्सों में पहुंचेगी ही साथ ही स्पीड भी पहले के मुकाबले काफी तेज हो जाएगी.
ऐसा इसलिए क्योंकी इसमें केयू बैंड में 32 यूजर बीम जबकि केए बैंड में आठ हब बीम हैं. बता दें कि एक स्पॉट बीम एक सैटेलाइट सिग्नल होता है जो कि तेजी से किसी क्षेत्र विशेष में ज्यादा फ्रीक्वेंसी की तरंगे भेज सकता है और ऐसा माना जाता है कि ये बीम जितनी ज्यादा पतली होंगी तरंगे उतनी ही ज्यादा शक्तिशाली होंगी
इसरो के एक अधिकारी ने कहा कि यह उपग्रह भारत में तकरीबन 16जीबीपीएस डेटा स्पीड मुहैया करा सकेगा

https://

अन्य खास बातें
1. इस सैटेलाइट को बनाने में लगभग 500 करोड़ का खर्चा आया है.
2. ये अपने साथ सोलर पैनल भी ले गया है जो की चार मीटर से भी ज्यादा बड़ा है. ये 11 किलोवाट की ऊर्जा का उत्पादन करेगा.
पढ़ें – स्पेस बिजनेस के तहत ISRO ने PSLV C-42 के साथ लांच किए दो ब्रिटिश सैटेलाइट, मिली बड़ी कामयाबी
3. उपग्रह हर सेकंड 100 गीगाबाइट से ऊपर की ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी देगा. साथ ही हाई क्वालिटी टेलीकॉम और डीटीएच सेवाओं में भी अहम भूमिका निभाएगा.
4. खास बात यह है कि ये पहले से मौजूद इनसैट या जीसैट सैटेलाइट्स से ज्यादा स्पीड देगा.इसके अलावा जीसैट-11 के बाद अगली साल सैटेलाइट जीसैट-20 को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया जाएगा.

वीडियो में देखें – 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here