30 साल का हुआ WWW, जानें इसके अविष्कार का पूरा इतिहास

World Wide Web Anniversary

World Wide Web Anniversary : 12 मार्च 1989 को टिम बर्नर्स ली ने WWW की खोज की थी

World Wide Web Anniversary : वर्ल्ड वाइड वेब आज 30 साल का हो चुका है जी हां वही वर्ल्ड वाइड वेब जिसे WWW भी कहते हैं उसे आज के दिन 30 साल पूरे हो चुके हैं.

ऐसे में आज इसी को लेकर गूगल ने भी एक बेहद ख़ास डूडल तैयार कर वर्ल्ड वाइड वेब को बधाई दी है.
इस डूडल में कंप्‍यूटर के अंदर धरती को घूमते हुए दिखाया गया है जो कि केवल एक स्विच से जुड़ी है.
बता दें कि आज से 30 साल पहले यानी कि 12 मार्च 1989 को ब्रिटेन के भौतिक विज्ञानी टिम बर्नर्स ली ने WWW की खोज की थी जिससे आज पूरी दुनिया में इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा रहा है.
पढ़ेंआकाशगंगा को लेकर वैज्ञानिकों ने किया अबतक का सबसे बड़ा खुलासा
क्या होता है WWW?
WWW या वर्ल्ड वाइड वेब एक एप्लिकेशन होता है जिसे HTML, URL और HTTP से बनाया गया है.
सर टिम बर्नर्स ली वर्ष 1989 में यूरोप की एक मशहूर संस्‍था CERN में काम करते हुए वर्ल्‍ड वाइड वेब का निर्माण किया था.
इसके बाद साल 1991 में पहले वेब ब्राउजर (worldwideweb.app) को लॉन्च किया गया था.
अब हमें आपको ये बताने की ज़रूरत तो नहीं है कि ये अविष्कार कितना महत्वपूर्ण था क्योंकि इस बात का अंदाज़ा आज इंटरनेट के बढ़ चुके विस्तार को देखकर कोई भी आसानी से लगा सकता है.
WWW के फादर टीम बर्नर्स ली से जुड़ी कुछ दिलचस्प जानकारियाँ
टिम बर्नर्स ली ने इंग्लैड के क्वींस कॉलेज और ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की जहां उन्होंने 1976 में फिजिक्स में डिग्री हासिल की.
बताया जाता है कि गणित के सब्जेक्ट में उनकी काफी अच्छी पकड़ थी. पढ़ाई पूरी करने के बाद वो यूरोपीय नाभिकीय अनुसंधान संगठन से जुड़े और तभी उन्होने WWW की खोज कर दुनिया को एक बेहतरीन तोहफ़ा दिया था.
टिम बर्नर्स ली को करीब से जानने वाले बताते हैं कि वो टिम बर्नर्स ली हमेशा कुछ नया करने की चाह में रहते थे.
  • टिम बर्नर्स ली ने स्विटजरलैंड में  नौकरी करने के दौरान ब्राउजर कंप्यूटर प्रोग्राम लिखा था. उन्‍होंने तीन टेक्‍नोलॉजी के फंडामेंटल लिखे जिनमें, HTML, URL और HTTP शामिल है. 6 अगस्त 1991 को टिम ने वर्ल्ड वाइड वेब प्रोजेक्ट का रिसर्च पेपर पब्लिश किया.
  • इस रिसर्च पेपर में टिम ने CERN के अपने मैनेजर से एक ऐसे इंफॉर्मेशन सिस्टम की मांग की थी जो उनकी लैब में एक कम्प्यूटर से दूसरे को कनेक्ट कर सके. टिम का यह प्रपोजल स्वीकार कर लिया गया और इसके बाद यूनिवर्सिटी और रिसर्चर्स एक कनेक्शन नेटवर्क से जुड़े.
  • यह था इंटरनेट पर पहला कम्युनिकेशन. 1991 में वेब ब्राउजर को CERN के बाहर रिलीज किया गया. अन्य रिसर्च संगठनों ने भी इस पर काम किया. इस तरह से 6 अगस्त को इंटरनेट का जन्म हुआ. पहली वेबसाइट http://info.cern.ch थी.
दुनिया की पहली वेबसाइट कौन सी थी?
आज हम बेशक पूरा-पूरा दिन इन्टरनेट पर बिता देते हैं लेकिन हममें से बहुत कम ही लोग होंगे जिन्हें पता होगा कि दुनिया की पहली वेबसाइट कौन सी थी? तो चलिए हम आपको बता देते हैं.
6 अगस्त को इंटरनेट अस्तित्व में आया और पहली वेबसाइट http://info.cern.ch 
 इस वेबसाइट के लॉन्च के बाद इंटरनेट का दौर शुरू हुआ, कई वेब कंपनियां आई और आज इसका विस्तार बड़े पैमाने पर हो चुका है.
पढ़ें – आखिर हम अपने स्मार्टफ़ोन के बिना क्यों नहीं जी पाते, शोध में सामने आई ये वजह
भारत में कब आया इन्टरनेट?
इंटरनेट को भारत में आने में ज्यादा समय नहीं लगा बताया जाता है कि इन्टरनेट के जन्म के 6 सालों के बाद ही भारत में इंटरनेट सेवा की शुरूआत हो गयी थी.
यानि भारत में इंटरनेट 15 अगस्त, 1995 को आया था जिसकी शुरूआत विदेश संचार लिमिटेड ने की थी.

जानकारी: एक अनुमान के मुताबिक, साल 2021 तक इंटरनेट यूजर्स की संख्या हमारे देश में 82.9 करोड़ हो सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here