10 वर्षीय पंजाबी पुत्तर अर्शदीप ने जीता वाइल्डलाइफ फटॉग्रफर ऑफ द इयर अवॉर्ड

Arshdeep Wins Wildlife Photographer Award

Arshdeep Wins Wildlife Photographer Award : अर्शदीप ने पाइप के अंदर बैठे उल्लू के दो बच्चों को अपने कैमरे में कैप्चर किया था

Arshdeep Wins Wildlife Photographer Award : भारत के युवाओं के साथ साथ अब बच्चे भी देश का नाम बढ़ाने में पीछे नहीं रह रहे.

पंजाब के जलंधर शहर के रहने वाले 10 वर्षीय अर्शदीप सिंह को हाल ही में यंग वाइल्डलाइफ फोटोग्रॉफर ऑफ द इयर 2018 के जूनियर कैटिगरी का विनर घोषित किया गया है.
ब्रिटेन के नैचरल हिस्ट्री म्यूजियम में आयोजित इस वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी कॉम्पटिशन में 10 साल के अंदर के बच्चों द्वारा उनकी फोटोग्राफी को लेकर कंपटीशन कराया गया था, जिसमें अर्शदीप की फोटो को प्रथम स्थान दिया गया है.
पढ़ें – किसान पुत्र आकाश ने तीरंदाजी में देश को दिलाया पहला ओलंपिक सिल्वर मेडल
Arshdeep Wins Wildlife Photographer Award
PC – Twitter
किस तस्वीर के लिए मिला अवार्ड
अर्शदीप ने पाइप के अंदर बैठे उल्लू के दो बच्चों को अपने कैमरे में कैप्चर किया था, जिसे सिलेक्ट कर उसे इस साल का बेस्ट वाइल्डग्राफ फोटोग्राफ माना गया.
अपनी इस फोटो कैप्चरिंग को लेकर अर्शदीप ने बताया कि वो एक दिन पंजाब के कपूरथला शहर के बाहरी इलाके में आपने पिता के साथ घूमने निकले हुए थे.
रास्ते में एक जगह उनकी नजर एक पाइप पर पड़ी जिसके अंदर उल्लू के दो छोटे-छोटे बच्चे बैठे थे और उड़ने की कोशिश कर रहे थे. उन्होंने कहा कि दोनों उल्लू के बच्चे पाइप से बाहर की तरफ झांक रहे थे जो मुझे बहुत प्यारा लगा और फिर मैंने उसे अपने कैमरे में कैद कर लिया.
पढ़ें – मिजोरम के जेरमी ने यूथ ओलिंपिक में गोल्ड जीतकर तोड़ा सालों का मिथक
वाइल्डलाइफ फोटोग्राफी का बचपन से ही है शौक
अर्शदीप ने बताया कि वह छह साल की उम्र से ही फोटोग्राफी कर रहे हैं.कैमरे में पक्षियों की तस्वीरें लेने का शौक अर्शदीप को बचपन से ही है.
यही नहीं उनके पिता भी रणदीप सिंह भी एक जाना माने वाइल्डलाइफ फोटोग्रॉफर हैं इसी वजह से दोनों बाप -पेटे अक्सर शहर से बाहर फोटोग्रॉफी के निकल जाया करते थे.
उन्होंने अपनी वेबसाइट arshdeep.in पर अपने परिचय में बताया है कि वाइल्डलाइफ फटॉग्रफी उनका जुनून है और प्रकृति व वाइल्डलाइफ का संरक्षण उनका उद्देश्य है.
बता दें कि अर्शदीप की ली गई कई तस्वीरों लोनली प्लानेट यूके, जर्मनी, इंडिया और बीबीसी वाइल्डलाइफ यूके में प्रकाशित हो चुकी हैं.