कभी भरपेट भोजन के लिए करता था गेंदबाजी, अब मिला यह बड़ा मौका

Cricketer Pappu Roy Success Story
PC - News18

Cricketer Pappu Roy Success Story : जन्म के कुछ दिनों के बाद ही सिर से उठ गया था मां -बाप का साया

Cricketer Pappu Roy Success Story :  जिंदगी में अगर आपके सपनों में वाकई दम और जान हो तो कोई भी मुसीबत या मुश्किल हालात आपको रोक नहीं सकते, बिहार के पप्पू राय की सफलता की कहानी आपको कुछ ऐसी ही लगेगी

गरीबी में पले बड़े पप्पु जब अपने मुंह से मां-पापा बोलने लायक भी नहीं थे तभी उनके उपर से मां बाप का साया उठ गया. लेकिन आज उन्हें वो मौका मिला है जो उनकी जिंगदी बदल सकता है.
दरअसल क्रिकेट के शौकीन पप्पु राय को देवधर ट्रॉफी के लिए अंजिक्य रहाणे की अगुवाई वाली भारत सी टीम में चुना गया है. उन्हें यह मौका ओडिशा की तरफ से विजय हजारे ट्रॉफी में अच्छे प्रदर्शन को देखते हुए दिया गया है.
पढ़ें – किसान पुत्र आकाश ने तीरंदाजी में देश को दिलाया पहला ओलंपिक सिल्वर मेडल
नहीं जानते माता-पिता के बारे में
पप्पू के पिता बिहार के सारण जिले में छपरा से 41 किमी दूर स्थित खजूरी गांव के रहने वाले थे और कमाने के लिए बंगाल में आकर ट्रक चलाने लगे थे .
उनके दिए इंटरव्यूह के मुताबिक वो अभी पैदा ही हुए थे कि उनके पिता का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया ,और किस्मत की अनहोनी देखिए पिता की मौत के कुछ दिनों के बाद ही उनकी मां भी लंबी बीमारी के बाद चल बसी.
माता – पिता की मौत के बाद पप्पू के चाचा और चाची उनकी देखभाल करने लगे, लेकिन जल्द ही उनके मजदूर चाचा की भी मौत हो गई जिसके बाद पप्पू के लिए एक वक्त का खाना भी मुश्किल हो गया था.

Cricketer Pappu Roy Success Story

10 रुपए के लिए डालते थे गेंद
पप्पू ने अपने मुश्किल भरे दिनों को याद करते हुए कहा भैया लोग बुलाते थे और बोलते थे कि बॉल डालेगा तो खाना खिलाऊंगा और हर विकेट का मुझे 10 रुपये देते थे.
उन्होंने बताया कि वो बतौर गेंदबाज अपनी शुरूआत तेज गेंदबाजी से की थी लेकिन हावड़ा क्रिकेट अकादमी के कोच सुजीत ने उन्हें स्पिनर बनने की सलाह दी.
पढ़ें – जानिए आखिर क्यों अहम है लॉर्ड्स का मैदान, कहलाया जाता है क्रिकेट का मक्का
पप्पू बताते हैं कि कोलकाता में कुछ लीग क्रिकेट खेलने से मुझे जरूरी पैसे कमाने का मौका मिला .
वह 2011 में बंगाल क्रिकेट संघ की सेकंड डिवीजन लीग में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे. इसके बाद ओडिशा की तरफ से खेले गए लिस्ट-ए के आठ मैचों में उन्होंने 14 विकेट झटके
 पप्पू रॉय ने देवधर ट्रॉफी के अलावा अपनी गेंदबाजी से विजय हजारे ट्रॉफी पर नजरें जमाए आईपीएल के प्रतिभा खोजने वाले दल का भी ध्यान खींचा है. हाल ही में इस युवा स्पिनर को मुंबई इंडियंस ने ट्रायल के लिए भी बुलाया था.