पेट्रोल-डीजल के दाम तो भारत में भी बढ़े लेकिन फ्रांस इतना क्यों उबल रहा

France Fuel Tax Hike Protest
PC - Straits Times

France Fuel Tax Hike Protest : फ्रांस की सरकार ने पेट्रोल के ऊपर कर यानी टैक्स बढ़ा दिया था

France Fuel Tax Hike Protest : पेट्रोल के बढ़ते दाम को लेकर भारत में बेशक कई विरोध प्रदर्शन हुए हैं, रैली हुई हैं यहां तक की दंगे भी हुए हैं लेकिन फिर भी रिजल्ट शून्य ही रहा.

इस बीच विदेशी धरती पर एक देश में पेट्रोल के बढ़ते दाम के खिलाफ कुछ ऐसा प्रदर्शन हुए है जो बेहद ही सरल था और सीधा सरकार पर इसका असर पड़ा.
हालांकी खई खबरों के मुताबिक कई जगह इस आंदोलन की उग्र होने की भी बात सामने आई है जिसे पुलिस में अपनी सुझबूझ से कम समय में नियंत्रण कर लिया.
फ्रांस में सरकार ने बढ़ाये पेट्रोल के दाम 
कुछ समय पहले फ्रांस की सरकार ने पेट्रोल के ऊपर कर यानी टैक्स बढ़ा दिया था जिससे अचानक पेट्रोल के दाम बढ़ गए.
पढ़ेंजानिये क्या है अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला, कौन है भारत लाया गया बिचौलिया मिशेल ?
माना जा रहा है कि सरकार ने ऐसा इसलिए किया ताकि देशभर में इलेक्ट्रिक कार की सेल बढ़ जाये और पॉल्युशन में निजात मिल सके लेकिन जनता को ये आईडिया पसंद नहीं आया.

France Fuel Tax Hike Protest

फ्रांस की आम जनता ने किया आंदोलन 
फ्रांस की आम जनता ने इसका विरोध किया और पीली जैकेट पहनकर निकल गए सड़कों के ऊपर, यहां आपको बता दैं कि यह पीली जैकेट फ्रांस में हर कोई शख्स अपनी गाड़ी में रखता है क्योंकि साल 2008 में फ़्रांस सरकार ने एक नियम दिया था कि अगर आपकी गाड़ी कहीं खराब होती है तो पीली जैकेट पहनकर उतरें .
मध्य वर्ग के लोग मुख्य तौर पर हुए इस आंदोलन में शामिल 
इस आंदोलन में मध्य वर्ग के लोग ज़्यादा सक्रिय हुए क्योंकि पेट्रोल के बढ़ते दाम से उनकी जेब पर सीधा असर पढ़ रहा है.
फ्रांस के एक आम नागरिक ने अग्रेजी वेबसाइट्स से बातचीत में बताया कि सरकार ने पेट्रोल के दाम बढ़ाकर इलेक्ट्रिक कार तो प्रोमोट कर दीं लेकिन इससे हमें नुकसान है, क्योंकि हम मध्य वर्ग के लोग पेट्रोल की मार से तो परेशान ही हैं और ना ही हम इलेक्ट्रिक कार खरीदने की हैसियत रखते हैं .
एक और आम निगरिक ने कहा “यहां का थोड़ा दबा हुआ मध्यमवर्ग, यानी भारत के हिसाब से 15 से 30 हज़ार रुपये कमाने वाला वर्ग परेशान है. उनका कहना है कि जीवनयापन इतना महंगा हो गया है कि महीने के आख़िरी दिनों तक सारा वेतन चला जाता है. “
पढ़ेंरूस और यूक्रेन के बीच एक बार फिर बढ़ा विवाद, जानें क्या है वजह और ताजा अपडेट
बिना किसी लीडर के हो रहा है आंदोलन 
इस येल्लो वेस्ट नाम के आंदोलन की खासियत यह है कि इसका कोई नेता नहीं है, जैसे भारत में हर आंदोलन के  पीछे कोई न कोई पॉलिटिकल सपोर्ट होता है लेकिन उसके विपरीत फ्रांस के येल्लो वेस्ट आंदोलन पूरी तरह से  जनता का है.
वहां के राजनीतिक दलों ने इसे अपने ओर खींचने की कोशिश की लेकिन कामयाबी नहीं मिली .

France Fuel Tax Hike Protest

क्या बोले फ्रांस के पत्रकार वहां के राष्ट्र्पति के लिए ?  
फ्रांस की एक बड़ी पत्रकार ने बताया कि “मैक्रों के पास बेशक ज़्यादा अनुभव नहीं है लेकिन एक और बात है. वह अमीर परिवार से हैं, बैंकर रहे हैं और ख़ुद भी संपन्न हैं.
उनकी सारी ज़िंदगी एलीट संस्थानों में रही है. समझिए कि वह सबसे ऊपर के ग्रुप में रहे हैं और उनके संपर्क का दायरा भी आम लोगों से बहुत कम रहा है.
इसलिए उनमें ऐसी क्षमता नहीं कि वे प्रदर्शनकारियों की समस्याओं को समझकर सहानुभूति जता सकें.”
उधर फ्रांस की जनता का मानना है कि वहां के राष्ट्रपति घमंडी हैं और उन्हें पद छोड़ देना चाहिए.
प्रदर्शनकारियों की जीत
इस आंदोलन का असर यह हुआ कि बीते गुरुवार को सरकार को अपना फ्यूल टैक्स में बढ़ोतरी वाले फैसले को टालना पड़ गया, जो प्रदर्शनकारियों की सबसे बड़ी मांग थी.
यानी की कहीं ना कहीं वहां की सरकार की जनता की ताकत समझ आ गई और समय रहते सचेत होकर उन्होंने बैकफुट पर ही खुद को रखना बेहतर समझा.
पढ़ें – बुलंदशहर में पुलिस और आम-जन के बीच हुए खूनी संघर्ष का ज़िम्मेदार कौन 
भारत में क्यों नहीं हो सकता ऐसा आंदोलन ? 
…क्योंकि भारत में जनता वो कठपुतली है जो किसी और के इशारों पर चलती है, यहां जनता के पास दिमाग तो है लेकिन उसका इस्तेमाल सिर्फ आपस लड़ने भर तक के लिए ही होता है … आंदोलन का मतलब पॉलिटिकल बैकअप नहीं बल्कि अपनी मांग पूरी कराना है.
हालांकी ऐसा बिल्कुल नहीं है कि भारत में पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने के बाद हम लोग शांत रहते हैं, मगर फिर भी बड़ा सवाल यह कि आखिर हमारी सरकारें इस बारे में शीघ्र कोई फैसला क्यों नहीं लेती.
शायद क्योंकी उन्हें पता है कि हमारे यहां 10 रुपए बढ़ाने के बाद अगर 50 पैसा ईंधन सस्ता कर दो तो भोली भाली जनता वापस हमारे पाले में आ जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here