जानें, आसिया बीबी की कही गई वो बात जिसे पाकिस्तान में मान लिया गया ईशनिंदा

Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case

Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case : साल 2010 से ईशनिंदा कानून के तहत जेल में बंद थी आसिया

Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case : हाल ही में पाकिस्तान की अदालत ने एक ऐसा फैसला लिया है जिसके बाद से वहां पूरे मुल्क में हिंसक दंगे शुरू हो गए हैं, कहीं सरकारी इमारते जला दी गयीं हैं तो कहीं बसों को आग के हवाले किया गया.

इस पूरी घटना के पीछे है एक ईसाई महिला और उस पर लगा ईशनिंदा का आरोप…आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला.
साल 2010 की एक घटना के बाद से जेल में बंद थी आसिया 
दरअसल, साल 2010 में एक दिन प्यासी ईसाई महिला आसिया बीबी ने पास ही के एक कुएं से बंधे गिलास से पानी पी लिया था. इसको देखने के बाद वहां मौजूद मुस्लिम महिलाएं भड़क उठीं और आसिया से बहस हो गयी.
“अशुद्ध हो गया ग्लास” 
आसिया ने जिस ग्लास से पानी पिया था उसे पड़ोसी मुस्लिम महिलाएं अशुद्ध कहने लगीं कि तभी लोगों को समझाते-समझाते आसिया ने ईसा मसीह और पैगंबर मोहम्मद की तुलना कर दी.
पढ़ें – पाकिस्तान की जेलों में कैद है 471 भारतीय, विदेश मंत्रालय ने सौंपी लिस्ट
इतना सुनने के बाद मामला और  बिगड़ गया और वो कि एक महिला ने ईशनिंदा कानून के तहत आसिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया , इसके बाद कोर्ट ने आसिया बीबी को फांसी की सज़ा सुनाई और तबसे आसिया जेल में बंद थीं.

Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case

आसिया ने कैसे बयान किया उस दिन की घटना
अंग्रेजी वेबसाइट न्यूयॉर्क पोस्ट में छपे एक लेख में आसिया 14 जून 2018 को हुई इस घटना को याद करते हुए लिखती हैं कि मैं उस दिन फालसा बटोरने के लिए गई थी. मुझे तभी प्यास  लगी तो मैं झाड़ियों से निकलकर पास ही में बने हुए एक कुएं के पास पहुंची और वहां से बाल्टी डालकर पानी निकाल लिया.
तभी मुझे एक औ महिला दिखी जिसकी हालत भी मेरे जैसे थी मैने उसे बाल्टी में रखा हुआ पानी देने की कोशिश करी अचानक एक महिला की आवाज और उसने चिल्लाकर कहा कि ये पानी मत पियो क्योंकि ‘ये हराम है’ इसे एक ईसाई महिला ने इसे अशुद्ध कर दिया है.
आसिया लिखती हैं फिर मैंने इसके जवाब में स इतना कहा कि  मुझे लगता है कि ईसा मसीह इस काम को पैग़ंबर मोहम्मद से अलग नज़र से देखेंगे. इतना सुनते ही वो भड़क गई और उन्होंने कहा कि तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई, पैग़ंबर मोहम्मद के बारे में कुछ बोलने की.
अब जज ने आसिया के फैसले को खारिज करते हुए कहा…
पिछले 8 सालों से जेल में एकांत में रह रही आसिया  के फैसले को खारिज करते हुए जज ने कहा “अन्य मामलों में अगर जरूरत नहीं है तो उन्हें तुरंत रिहा किया जाए, ‘इस्लाम में सहिष्णुता मूल सिद्धांत है. जज ने यह भी कहा कि  धर्म अन्याय और अत्याचार की निंदा करता है.”
पढ़ें – खेत-खलिहान से लेकर सुरक्षा तक भारत का सच्चा साथी है इजरायल
रिहाई पर क्या बोली आसिया ?
8 सालों तक जेल में एकांत में जीवन गुजारने के बाद बाहर आयी आसिया ने कहा कि उन्हें अभी भी यकीन नहीं है कि वो आज़ाद हैं. उनके अनुसार उनका जीवन बहुत मुश्किलों से गुजरा है.

Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case

पाकिस्तान में 1980 में आया था यह कानून 
जिस ईशनिंदा कानून की वजह से आज पूरा पाकिस्तान जल  उठा है उसे सैन्य तानाशाह जियाउल हक ने 1980 में लागू किया था और पाकिस्तान में इस कानून का काफी समर्थन किया जाता है.
ख़बरों के मुताबिक़, साल 1990 के बाद से अब तक लगभग 65 लोगों को ईशनिंदा के मामले में जान से मारा जा चुका है.
वो कुछ जानकार तो ये भी कहते हैं कि अल्पसंख्ययकों को किसी मामले में दोषी ठहराने के लिए वहां के लोग इसे सबसे मजबूत हथिया के तौर पर इस्तेमाल करते हैं.
गौरतलब है कि अकेले पाकिस्तान में ही ईशनिंदा कानून नहीं लागू है बल्कि दूनिया के 25 प्रतिशत देशों में धर्म का अपमान करने वालों को जेल, जुर्माना या मौत की सजा का प्रावधान है. सउदी अरब,इंडोनेशिया,मिस्त्र और ईरान इसके सबसे बड़े उदाहरण है.
Pakistan Asia Bibi Blasphemy Case
PC – GOOGLE
 10 तारिख तक पाकिस्तान में जनसभा बंद, पीएम ने की अपील 
सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद से ही  पाकिस्तान में दंगे शुरू हो गए हैं, इनको देखते हुए पीएम इमरान खान ने अपील की है कि जजों ने जो फैसला दिया है वह इस्लामी कानून के मुताबिक दिया है. ऐसे में सभी को उसे स्वीकार करना चाहिए.
पढ़ें – श्रीलंका में आए राजनीतिक भूचाल की क्या है जड़, समझें पूरा मामला
बता दें उन्होंने हिंसा करने पर लोगों के खिलाफ ऐक्शन लेने की चेतावनी भी दी है.वहीं अभी ताजा खबरों के मुताबिक वहां की सरकार ने ईसाई महिला आसिया बीबी को देश छोड़ने से रोकने के लिए कानूनी कदम उठाने वाली है.
यानि की इससे यह साबित होता है कि एक तरफ तो पाकिस्तान सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सही ठहरा रही वहीं दूसरी तरफ वो उस जनता के गुस्से से भी डर रही है जो आसिया के रिहाई वाले फैसले के बाद उपजा है.
इस बीच पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में हाई अलर्ट जारी किया गया है और 144 धारा भी लगा दी गयी है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here