IIT मद्रास की खोज, खेतों में अब ड्रोन करेगा कीटनाशकों का छिड़काव

Pesticides Spraying Drone
PC - Indian Express

Pesticides Spraying Drone : IIT मद्रास के छात्रों ने बनाया एग्रीकॉप्टर ड्रोन

Pesticides Spraying Drone : तकनीक के बढ़ते दौर में भी हमारे देश के किसान खेती के दौरान रोजाना कई तरह की मुसीबतों का सामना करते हैं.

इसी में से एक है कीटनाशकों के छिड़काव के समय उसके संपर्क में आने से होने वाली बिमारी जो किसानों को इतना बिमार कर देती है की उनकी जान पर आफत बन जाती है.
दरअसल भारत में आज भी लगभग 90 प्रतिशत लोग अपने खेतों में हाथों से ही जहरीले रसायन से बने कीटनाशकों का छिड़काव करते हैं.
पढ़ेंजानिए किस फसल के लिए कौन सी मिट्टी होती है सबसे लाभदायक
जिसका नतीजा ये होता है की आगे चलकर वो इन रसायनों के चपेट में आ जाते हैं और गंभीर बीमार हो जाते हैं.
लेकिन अब शायद ऐसा ना हो क्योंकी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मद्रास के छात्रों ने एक ऐसा स्मार्ट ड्रोन बनाया है जो खेतो में हाथ से कीटनाशकों के छिड़काव को पूरी तरह खत्म कर देगा.
सिर्फ यही नहीं इस ड्रोन में लगे कैमरों की मदद से फसल की सेहत और उसकी मौजूदा हालात पर भी नजर रखी जा सकेगी.
एयरोस्पेस इंजीनियरिंग छात्र ऋषभ वर्मा ने मीडिया को इसके बारे में बताते हुए जानकारी दी कि ड्रोन में लगा अत्याधुनिक मल्टीस्पैक्ट्रल इमेजिंग कैमरा फसल की सेहत के आधार पर खेत का स्मार्ट मैप बनाने में मदद करता है.
इसमें ऑटोमेटिक कीटनाशक रीफिलिंग सिस्टम लगाया गया है यह सुनिश्चित करता है कि कीटनाशक का छिड़काव अपने आप लगातार होता रहे.
पढ़ें – जलवायु परिवर्तन के प्रकोप से 2050 तक गेहूं, चावल और दूध के लिए तरस जाएगा भारत
बता दें कि इस एयरोस्पेस ड्रोन को तैयार करने में लगभग 5.1 लाख रुपए की लागत आई है.
यह 15 लीटर कीटनाशक ले जाने की क्षमता रखता है और छिड़काव भी 10 गुना तेजी से करता है.
इस शोध के लिए छात्रों की टीम ने इंडियन इनोवेशन ग्रोथ प्रोग्राम का पुरस्कार भी जीता है, जिसके बाद उन्होंने इसके पेटेंट के लिए भी आवेदन किया है.