फसल खराब करने वाले जानवरों से निपटने के लिए किसानों को मिला ब्रह्मास्त्र, पढ़ें पूरी खबर

किसान | farmer
खेत में घूमते हुए पशु

हर साल पूरे देश में हजारों के टन में किसानों की फसल नीलगाय, जंगली सुअर समेत अन्य आवारा जानवरों के द्वारा बर्बाद कर दी जाती है.

वहीं सूखा,बाढ़,पाला जैसे प्रकृतिक आपदा पहले से ही झेल रहे किसानों के लिए जानवरों का यह आतंक उनकी कमर तोड़ने जैसा रहता है.
इस बीच एक खुशी बात है कि जानवारों के इसी आतंक से किसानों को निजात दिलाने के गुजरात के एक किसान बचुभाई ठेसिया ने झटका मशीन ईजात की है. इस मशीन की खास बात यह है कि इसके झटके से कोई भी जानवार या इंसान घायल नहीं होता है. और खेत की सुरक्षा भी होती रहती है.
किसान कम वैज्ञानिक ज्यादा है बचुभाई
गुजरात के जामनगर जिले के कालावाड तहसील के रहने वाले बचुभाई ठेसिया किसान के साथ-साथ एक वैज्ञानिक भी हैं.
अपनी इस मशीन के बारे में बताते हुए बचुभाई कहते हैं कि आवारा जानवर हर राज्य के किसानों की समस्या है. लेकिन कुछ लोग अपनी फसलों को बचाने के लिए खेत के चारों ओर बिजली के तार बांधकर उसमें करंट दौड़ा देते हैं. जो कानूनी तौर पर अपराध की श्रेणी में आता है. क्योंकि इससे व्यक्ति और पशुओं के मरने का खतरा रहता है.
जबकि बचुभाई दावा करते हैं कि उनकी इस मशीन से जानवारों को सिर्फ झटका लगता है लेकिन उन्हें कोई नुकसान नहीं होता. बचुभाई कहते हैं कि आज तकरीबन 25 हजार किसान उनकी इस मशीन का इस्तेमाल कर रहे हैं.
किसान | farmer
खेत में लगाई जाने वाली मशीन
 कैसे काम करती है झटका मशीन
इस मशीन से 9 किलोवाट का करंट निकलता है, जो खेत के चारों तरफ फैले तारों में दौड़ता है. यह मशीन सोलर पैनल के जरिए चार्ज होती है. इस मशीन में डे नाइट मोडऑटो मेटिक मोड के दो ऑपशन रहते हैं. डे नाइट मोड में मशीन केवल दो घंटे ही करंट सप्लाई करती है. वहीं ऑटो मेटिक मो पर यह मशीन पूरे 24 घन्टे काम करेगी .
राष्ट्रपति से मिल चुका है सम्मान
इस मशीन के अलावा बचुभाई खेती से जुड़े कई आधुनिक उपकरणों की भी खोज कर चुके हैं. जिसके लिए वो पूर्व राष्ट्रपति डॅा ए.पी.जी अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटिल और कृषि मंत्री शरद पवार से सम्मानित भी हो चुके हैं.
बचुभाई कहते हैं कि मुझे इन मशीनों को बनाने का विचार खुद की खेती करने के दौरान आता है . उन्होंने कहा कि जो-जो परेशानियां मुझे मेरी खेती करने के दौरान आती हैं मैं उनका हल ढूंढते हुए नया उपकरण बना डालता हुं.
उन्होंने जानकारी दी कि उनके द्वारा बनाए गए उपकरणों में प्रमुख खेत में पानी देने वाली मशीन और 25 हजार का खेत जोतने वाला ट्रैक्टर है. इस ट्रैक्टर के अंदर दो बैलों की शक्ति जितनी पॉवर है जो उनके बराबर काम कर सकता है. इसके अलावा झटका मशीन है जिसका किसान बड़ी मात्रा में प्रयोग कर रहे हैं.
आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के भोपाल जिले के भोरासा गाँव के किसान कामरान खान इस मशीन का कुछ सालों से इस्तेमाल कर रहे हैं.
कामरान खान बताते हैं कि इस मशीन को लगाने से पहले उनकी 25 एकड़ की फसल आवारा पशुओं के आतंक से बर्बाद हो जाती थी. जिसके कारण उनकी लागत भी नहीं निकल पाती थी. मगर जबसे इस मशीन को लगाया है मुझे काफी फायदा देखने को मिला है. जिसे देखकर आस पास के किसानों ने भी इस मशीन को लगाना शुरू कर दिया है.
कामरान यह भी बताते हैं कि पहले उन्हें इस परेशानी से निपटने के लिए खेतों में कटीले तारों को बांधना पड़ता था जिसकी लागत लगभग 1,36000 थी. मगर अब झटका मशीन के इस्तेमाल से इसकी लागत ठीक आधी हो गई है.
इस मशीन से संबंधित जानकारी लेने के लिए किसान बचुभाई ठेसिया से नीचे दिए गए नम्बर पर संपर्क भी कर सकते हैं

9375555883

साभार- गांव कनेक्शन