कोच्चि के साधारण से बैंक ने अभियान चलाकर ग्रामीणों को किया ऑर्गेनिक खेती के लिए प्रेरित

Kochi Villagers Organic Farming
demo pic

Kochi Villagers Organic Farming : पिछले 4 साल से ऑर्गेनिक खेती के लिए बैंक ग्रामिणों की करता है हर संभव मदद

Kochi Villagers Organic Farming : हमारे देश के कृषि क्षेत्र में कई तरह के बदलावों की जरूरत है, आमूमन इस बात का एहसास कई सालों से हमारी सरकारें और नागरिको को हैं.

यही नहीं हमें यह भी आभास है कि दिन प्रतिदिन किसानों की दयनीय होती स्थिती आने वाले एक विशाल संकट की आहट है.
आज देश के हर कोने से किसानों की आत्महत्या के बढ़ते आंकड़े देखकर नए बदलावों की मांग उठती है मगर उनमें से कुछ ही रहते हैं जो इस परेशानी से निपटने के लिए एक नई पहल की शुरूआत करते हैं.
ऐसा ही एक सामूहिक प्रयास केरल के कोच्चि जिले के परककावडू गांव के ग्रामीणों ने किया है, जो अन्य स्थानीय निकायों के लिए एक मॉडल बन सकता है.
दरअसल परककावडू सेवा सहकारी बैंक ने चार साल पहले गांव के लोगों में ऑर्गेनिक खेती की तरफ आकर्षित करने के लिए विभिन्न योजनाओं का संचालन शुरू किया था.
यह भी पढ़ें – टीवी शोज का सफल कैरियर छोड़ बिहार के अपने गांव में खेती करने पहुंच गया ये एक्टर
इसके बाद धीरे धीरे ग्रामीणों ने इन योजनाओं का सफल क्रियान्वहन अपने खेती में करना शुरू कर दिया जिसके बाद गांव की लगभग 25 बंजर क्षेत्रों को खेती योग्य भूमि में परिवर्तित कर दिया गया है. जहां अब विभिन्न फसलों की कटाई भी होती है.
बता दें कि गांव में विभिन्न कृषि गतिविधियों में अब तकरीबन 800 से अधिक सक्रिय सदस्य शामिल हो गए हैं, जो इस पहल की सफलता का संकेत देते हैं.

बैंक का प्राथमिक उद्देश्य पारकदावु को ‘जहरीली मुक्त’ सब्जियों, धान, मछली, मांस, अंडे और दूध से मुक्त कराना है.

गौरतलब है कि 2014 में एक छोटे स्तर पर शुरू हुए इस कार्यक्रम में अब 48 कृषि समूहों और गांव के 800 परिवारों के 800 सदस्यों की एक बड़ी कृषि श्रृंखला बन चुकी है.
प्रत्येक खेती समूह में पांच से दस सदस्य होते हैं जिनकी फसलों में विभिन्न सब्जियां, केले, मकई और धान शामिल हैं.
इन विभिन्न फसलों के साथ साथ खेती समूह अब सक्रिय रूप से चिकन प्रजनन, बतख प्रजनन, हाई-टेक मछली पालन, पॉलीहाउस खेती और फूलों की खेती भी करना शुरू कर दिया हैं.
बैंक करता है हर संभव मदद
बता दें कि यह बैंक कार्बनिक कीटनाशकों, आवश्यक बीज और पौधे को मुफ्त में ग्रामीणों को प्रदान करता है.
यह भी पढ़ें – Kerala Agriculture Model : केरल का कृषि मॉडल मालदीव के किसानों का बना नया ब्रह्मास्त्र
इसके अलावा परकदावु सहकारी बैंक द्वारा आकर्षक ऋण योजनाएं, सब्सिडी और किसान क्रेडिट कार्ड भी उपलब्ध कराए जाते हैं
हमारी कोशिश है कि हम आपको इस तरह की कहानियां बताए ऐसे तरीके सुझाए जो आपके जीवन में बदलाव ला सके. बदलाव ना सही तो बदलाव का हम एक जरिया बन सकते हैं.
इस तरह के ज्ञान को उन लोगो के साथ बांटे जिन्हें शायद इस की जरूरत है. इसलिए आपसे निवेदन है कि इस तरह कि कहानियों शेयर करें और सामाजिक बदलाव का एक हिस्सा बनें.

साभार – इंडियन एक्सप्रेस
For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus