जानें भारत का सबसे बेस्ट गांव, कौन सा राज्य बना अव्वल

Top 10 India Best Villages
demo pic

Top 10 India Best Villages : देश के 128 गांवों को मिली टॉप 10 में एक साथ जगह 

Top 10 India Best Villages : भारत के टॉप 10 शहरों की तर्ज पर अब सरकार द्वारा गांवों की लिस्ट भी जारी करी गई है.

ग्रामीण विकास मंत्रालय ने अंतोदया मिशन के तहत देश के टॉप 10 गांवों की सूचि निकाली गई है, लेकिन इसमें हैरानी की बात यह है कि इस लिस्ट में सिर्फ 10 गांव नहीं बल्कि 128 गांवों को देश के 10 सबसे अच्छे गांवों का दर्जा मिला है.
बता दें कि इस लिस्ट को तैयार करने के लिए मंत्रालय ने 1.22 लाख गांव पंचायत का डाटा इक्ठ्ठा किया गया जिसके बाद हर पहलु पर गौर करते हुए इन 128 गांवों को चुना गया है.
आकड़ों के मुताबिक इन 128 गांवों में से सबसे ज्यादा 36 गांव आंध्र प्रदेश में है लेकिन तेलंगाना के संगरेड्डी जिला की तेलापुर ग्राम पंचायत देश का नंबर वन गांव माना गया है.
पढ़ें – अपने इस दोस्त को भूलना किसानों को पड़ रहा है भारी
भारत के शीर्ष 5 गांव 
ग्रामीण विकास मंत्रालय के अनुसार, संगारेड्डी जिले का टेलापुर 92 स्कोर के साथ भारत का शीर्ष गांव है.
इसके बाद चित्तूर जिले के परपतला (90 अंक), अल्मोड़ा जिले के अधूरिया (89), गांधीनगर जिले के चरदा (8 9) और विशाखापत्तनम का चेदिकदा (89 ) का नंबर आता है.
Top 10 Indian Villages
demo pic
शीर्ष 10 में गांवों की संख्या: राज्यवार
आंध्र प्रदेश (36) में शीर्ष 10 में से सबसे ज्यादा गांव हैं जबकि तमिलनाडु 22 गांवों के साथ दूसरे स्थान पर.
इसके बाद तीसरे स्थान पर गुजरात है जिसके 12 गांव इस लिस्ट में है फिर तेलंगाना (10), पंजाब (7), हरियाणा (7), कर्नाटक (7), महाराष्ट्र (6) और उत्तर प्रदेश (1) का नंबर आता है.
टॉप 30 में किसने बनाई जगह
टॉप 10 गांवों के इतर अगर टॉप 30 की बात करें तो इसमें 1,2000 गांवों का चयन किया गया है.
जिसमें 2271 गांवों के साथ गुजरात पहले स्थान पर है. इसके बाद पंजाब 2000 ,यूपी 1,250 और हरियाणा 1249 गावों के साथटॉप 30 में जगह बनाने में कामयाब हुए हैं.
पढ़ें – दो इंजीनियरों की साझा कोशिशों से यूपी का ये गांव बना देश का पहला स्मार्टगांव
किस आधार पर गांवों की करी गई रैंकिंग
1) स्वास्थ्य और स्वच्छता : खुले में शौचालय मुक्त और इससे निपटाने के तरीके
2) कृषि, सहयोग और आजीविका : बाजारों और सरकारी बीज केंद्रों की उपलब्धता का आकलन
3)पक्के आवास : पक्की दीवारों और छत के साथ घरों का प्रतिशत
4) भूमि सुधार
5) पशुपालन
6) पेयजल : पीने वाले पानी के पाइप की उपलब्धता
7) सड़कें : सार्वजनिक परिवहन और सभी मौसम कनेक्टिविटी की उपलब्धता
8) ग्रामीण विद्युतीकरण: बिजली कनेक्शन वाले घरों का प्रतिशत और गैर परंपरागत ऊर्जा की उपलब्धता
9) गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों की प्रभावशीलता
Top 10 Indian Villages
 क्यों जरूरी है यह आकलन
बता दें कि इस मूल्यांकन का मुख्य उद्देश्य यह पता लगाना है कि आखिर गांवों में किस चीज की कमी है. ताकी इसकी भरपाई करके ग्राम और वहां के लोगों की  मदद के लिए योजाएं बनाई जा सकें.
जो कि उन्हें एक विकासशील पथ पर आगे ले जाने में मदद कर और वो भी शहरों से कंधे से कंधा मिलाकर देश के हर अवसर पर खड़े रहें.