Nobel Prize Distribution: 116 सालों में सिर्फ 39 महिलाओं को ही मिला है अंतराष्ट्रीय नोबेल पुरस्कार

nobel prize distribution

Nobel Prize Distribution: आने वाले समय में बढ़ेगी भागीदारी

Nobel Prize Distribution: हाल ही में 2017 के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा में अलग- अलग लोगों को छह कैटेगरी में पुरस्कार दिए गए हैं.

मगर यहां गौर करने वाली बात है कि हर बार की तरह इस बार भी यह सभी आवार्ड पुरुषों को मिले हैं.
स्वीडिश एकेडमी का कहना है कि, 1901 में शुरू हुए नोबेल पुरस्कार वितरण में आज तक 923 में से सिर्फ 49 आवार्ड ही महिलाओं को मिले हैं.
इस पर सवाल उठना लाजिमी था कि आखिर 116 सालों में क्या सिर्फ पुरूषों ने ही विज्ञान,अर्थशास्त्र,समाज की शांती के लिए काम किया है. महिलाओं का इन सब में क्या कोई योगदान नहीं.
यह भी पढ़ें- FCI JOB 2017: आठवीं पास के लिए एफसीआई में निकली भर्तियां, ऐसे कर सकते हैं आवेदन
इस सवाल का नोबेल फाउंडेशन के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के वाइस चैयरमैन गोरन हैरेसन ने जवाब देते हुए कहा कि हमें भी निराशा होती है जब नोमिनेट किए नामों में महिलाओं के नामों की कमी होती है.
लेकिन इसका कारण पुरुषवादी सोच नहीं है. उन्होंने बताया कि इसके पीछे का मुख्य कारण महिला वैज्ञानिकों की संख्या में कमी. और खासकर आज से बीस से तीस साल पहले स्थिति और भी खराब थी.
उन्होंने कहा कि आपको यह जानकार हैरानी होगी कि पुरस्कारों का चयन करने वाली छह कैटेगरी में से तीन की जज महिलाएं होती हैं,जो इन इनामों के विजेता का फैसला करती है.
गोरन हैरसन ने कहा कि बल्कि हमें तो खुशी होती है जब भी कोई महिला इनाम जीतती है इसमें किसी तरह का झुकाव नहीं है.
यह भी पढ़ें- MP Widow Remarriage: मध्य प्रदेश में विधवा से शादी करने पर पति को मिलेंगे 2 लाख रुपए
उन्होंने यह भी बताया कि महिला वैज्ञानिकों को विज्ञान के क्षेत्र में और आगे बढ़ने के मौके मिले इसके लिए वो लोग नए तरीके पर काम कर रहे हैं
वहीं इकनॉमिक्स में पुरुस्कार देने वाली कमेटी के अध्यक्ष स्ट्रोमबर्ग ने इसकी वजह गिनाते हुए कहा कि हम इस वक्त 60, 70 और 80 दशकों के वक्त हुई रिसर्चों के लिए पुरस्कार दे रहें हैं, जिस वक्त पुरुषों की संख्या बहुत अधिक होती थी. उस समय पूरे विश्व में बहुत कम महिला इकनोमिक्स थीं.

For More Breaking News In Hindi and Positive News India Follow Us On Facebook, Twitter, Instagram, and Google Plus