Tech Reskilling : विश्व के 10 लाख कर्मचारियों को तकनीकि प्रशिक्षण देने के लिए टाटा और इंफोसिस आए साथ

Indian Skill Report 2018
demo pic(wef)

Tech Reskilling : दुनिया भर के 10 लाख श्रमिकों को मिलेगा लाभ

Tech Reskilling : युवाओं में तकनीकि कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए भारत की दो दिग्गज आईटी कंपनियों ने हाथ मिलाया है.

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (टीसीएस) और इंफोसिस ने दुनिया भर के लगभग 10 लाख कर्मीयों को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए साथ काम करने का करार किया है.
बता दें कि यह एक वैश्विक स्तर का अभियान है जिसका गठन दुनियाभर में असमान्य तरीकों से कम होती नौकरी और कौशल अंतर की चुनौतियों से निपटने के लिए किया गया है.
इस पहल के संस्थापक कंपनियों में टीसीएस और इंफोसिस के अलावा एसेंचर, सीए टेक्नोलॉजीस, सिस्को, काग्निजेंट, ह्यूलेट पैकर्ड एंटरप्राइजेज, पेगासिस्टम्स, पीडब्ल्यूसी, सेल्सफोर्स और एसएपी (सैप) जैसी मल्टीनेशनल कंपनियां शामिल हैं.
दावोस में हुए विश्व आर्थिक मंच में पेश की गई रिपोर्ट के मुताबिक विश्व में हर चार कर्मचारी में से एक कर्मचारी ऐसा पाया गया जो अपनी मौजूदा नौकरी में कर रहे कामों में निपुण नहीं है.
इसलिए श्रमिकों के बीच इस अंतर को कम करने और उन्हें पूरी तरह से उनके किए जा रहे कामों में निपुण बनाने और उन्हे लेटेस्ट टेकनोलॉजी का ज्ञान देने के लिए विश्व स्तर पर इस अभियान की शुरूआत की गई है.
यह भी पढ़ें – India Japan Job Training: भारत की बेरोजगारी जापान के लिए बनेगी कारगार
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबित ऐसा बताया जा रहा है कि इस पहल की शुरूआत सबसे पहले अमेरिका के बाजारों से की जाएगी. जिसमें 2018 और उससे आगे के अन्य भौगोलिक क्षेत्रों और औद्योगिक और सार्वजनिक क्षेत्र की साझेदारी के निर्माण की योजना है.
गौरतलब है कि इस पूरे अभियान का अध्यक्ष सीई टेक्नोलॉजीज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी माइक ग्रेगोइयर को बनाया गया है.
वहीं इस पहल के बारे में टीसीएस के प्रमुख राजेश गोपीनाथन ने कहा कि कर्मचारियों को अपने कौशल को बदलना होगा और उन्हें काम करने के आज की तकनीक को अपनाना होगा.
उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की पुन:संरचना और उन्हें डिजिटल दौर से जोड़ने के लिए इस तरह के प्रशिक्षण की शुरूआत करना काफी महत्वपूर्ण है.

भाषा के इनपुट से