UN Hunger Index 2018 : दुनिया भर में 12 करोड़ से अधिक लोगों की भुखमरी से हो सकती है मौत

Global Hunger Index 2018
demo pic

UN Hunger Index 2018 :  60 फीसदी लोग युद्ध पीड़ित इलाकों में रहते हैं 

UN Hunger Index 2018 : दुनिया भर में बढ़ती भुखमरी से मरने वालों की संख्या को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने एक चौंकने वाले आकडें पेश किए हैं.

दरअसल संयुक्त राष्ट्र की खाद्य एजेंसी ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि दुनिया भर में भुख के कारण मरने के कगार पर खड़े लोगों की संख्या पिछले साल की तुलना में बढ़कर अब 12 करोड़ 40 लाख पहुंच गई है.
इसे लेकर UN ने सभी देशों को आगाह किया है कि अगर जल्द ही इन लोगों तक खाना नहीं पहुंचा गया तो इनकी मौत भी हो सकती है.
एजेंसी के प्रमुख डेविड बीसली ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ऐसा इसलिए हो रहा हो क्योंकी लोग एक दूसरे को गोली मारने से भी नहीं कतराते.
डेविड ने शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संयुक्त राष्ट्र में बताया कि भूख से जूझ रहे तकरीबन 3 करोड़ 20 लाख लोग चार संघर्षरत देश सोमालिया, यमन, दक्षिण सूडान और उत्तर पूर्व नाइजीरिया में रह रहे हैं.
गौरतलब है कि यह वही देश हैं जिन्हें पिछले साल अकाल की स्थिति से बचा लिया गया था.
डेनिड ने कहा कि दुनिया भर में 81 करोड़ 50 लाख भूखे लोगों में से 60 फीसदी लोग युद्ध पीड़ित इलाकों में रहते हैं और उन्हें यह तक नहीं पता रहता है कि अगली बार उन्हें खाना से मिलेगा.
यह भी पढ़ें – World Invisible People : दुनिया में बिना पहचानपत्र के रह रहे हैं 1.1 बिलियन लोग
हालांकि संयुक्त राष्ट्र में ही मानवतावाद प्रमुख मार्क लोकोक ने कहा कि इस गंभीर चेतावनी के बावजूद यह देखा गया है कि पिछले कुछ दशकों में अकाल की स्थिति में सुधार देखा गया है और यह पहले से कम घातक हुई हैं.
उन्होंने कृषि उत्पादन और मैन्यूफैक्चरिंग क्षेत्र में हुए विस्तार और गरीबी में आई वैश्विक कमी के चलते लोगों की क्रय शक्ति के बढ़ने का हवाला देते हुए इसे एक अद्भुत उपलब्धि बताया.
लोकोक ने कहा कि अकाल और भूख का खतरा अब केवल बड़े पैमाने पर गंभीर और लंबे संघर्ष से प्रभावित देशों की एक छोटी संख्या में ही केंद्रित है.
उन्होंने आकड़े बताते हुए कहा कि लगभग 49 करोड़ कुपोषित लोग और दुनिया के 15.5 करोड़ अविकसित बच्चों का 80 प्रतिशत संघर्ष प्रभावित देशों में रहते हैं.